Home 360° जाफरी परिवार ने सहज कर आज भी रखा है 900 साल पुराना...

जाफरी परिवार ने सहज कर आज भी रखा है 900 साल पुराना क़ुरान शरीफ

काबा पर इमान रखने वाले काशी के मुसलमानों के लिए इस बार रमजान का महीना बेहद खास होने वाला है। माह-ए-रमजान में उन्हें सोने के पानी से लिखी 892 साल पुरानी कुरान मजीद के दीदार होंगे। यह कुरान सन 1126 में लिखी गई है। रमजान की 24 तारीख को इसे दालमंडी के इमामबाड़े में प्रदर्शित किया जायेगा।

कुरान मजीद की आयतें काली स्याही से लिखी गई हैं जबकि उनका उर्दू में अनुवाद सुनहरे अक्षरों में लिखा है। हस्तनिर्मित मोटे कागज पर लिखी आयतों को देख कर लगता है कि इस प्रति को खासतौर से शाही परिवार के लिए तैयार किया गया था। इसके मुख्य पृष्ठ का आधार नील से तैयार हुआ जबकि उसके ऊपर सुनहरी स्याही से सजावट की गई है। चटाई की बुनाई जैसा आभास देने वाले सुनहरे फ्रेम के अंदर सुनहरी आयताकार आकृति है। इसके बाहर चारो ओर सोने के पानी से बेल, बूटे और फूल उकेरे गये हैं। यह कुरान करीब तीन सौ पृष्ठों में है। इसके अंतिम पृष्ठ पर इसका लेखन पूर्ण होने की 19 तारीख, महीना जमादिससानी और 992 हिजरी लिखा है।

बनारस में इस कुरान को हकीम मोहम्मद जाफर के पिता हकीम मोहम्मद अहमद अली 1857 की ग’दर के बाद दिल्ली से पहले लखनऊ, फिर बनारस लेकर आए थे। हकीम जाफर की चौथी पीढ़ी के प्रतिनिधि डा. मुजतबा जाफरी और उनके छोटे भाई मुर्तजा जाफरी ने इस विरासत को दिलोजान से संजो रखा है।

पटना मेडिकल कॉलेज में तैनात डा. मुजतबा जाफरी के अनुसार इस कुरान की प्राचीनता की जांच लिपि विशेषज्ञ कर चुके हैं। वर्ष 2014 में कुरान मजीद की माइक्रो फिल्म तैयार करने से पहले भी लिपि विशेषज्ञों ने जांच पड़ताल की थी। हर तरह से आश्वस्त होने के बाद पटना की खुदाबक्श लाइब्रेरी ने इसकी माइक्रो फिल्म तैयार की।

डा. जाफरी के अनुसार उनके दादा हकीम मोहम्मद हसन काजिम ने अपने हाथों से यह थाती सौपी थी। उस वक्त उन्होंने बताया था कि मेरे दादा के दादा हकीम मोहम्मद अहमद अली को 1857 की गद’र के बाद अंग्रेजों से बचने के लिए दिल्ली छोड़नी पड़ी थी। उस वक्त सवारियों पर जेवरात कम और किताबें अधिक लादी गई थीं। उनका कहना था किताबें रहेंगी तो उनके बलबूते बहुत से जेवरात बन जाएंगे। वह दिल्ली से लखनऊ चले आए। कुछ दिनों बाद अपने बेटे हकीम मोहम्मद जाफर के साथ ये सारी किताबें बनारस भेज दीं। इनमें धर्म, विज्ञान, भाषा, इतिहास आदि सभी विषयों से जुड़ी किताबें थीं

जाफरी परिवार ने किताबों की शक्ल में कई थाती सहेज रखी हैं। इनमें दो प्रतियां तारीक-ए-इस्लाम की हैं। एक प्रति गद्य में लिखी है जो करीब साढ़े तीन सौ साल पुरानी है। दूसरी प्रति करीब छह सौ साल पुरानी है जो नज्म की शक्ल में है। यह देशभर में इकलौती तारीक-ए-इस्लाम है जो पद्य में लिखी हुई है। बनारस में दहगाह-ए-फातमान के संस्थापक शेख अली हजी का दीवान भी इस परिवार की बड़ी धरोहर है।

भारत की सबसे पुरानी कुरान की मूल प्रति पटना की खुदाबक्श लाइब्रेरी में अब भी सुरक्षित है। इसे नौवीं सदी में चमड़े पर लिखा गया था। उस दौर में कागज नहीं होते थे, लिहाजा उसे चमड़े पर लिखा गया। खुदाबक्श लाइब्रेरी के सेक्शन प्रभारी जावेद के अनुसार इस पुस्तकालय में तीन और पुरानी कुरान भी हैं जिन्हें सन 1126, 1160 और 1190 में लिखा गया है।यह न्यूज़ हिंदुस्तान से ली गयी है

RELATED ARTICLES

ज़ाहिद कुरैशी अमेरिकी जज बनने वाले पहले मुस्लिम

अमेरिकी सीनेट (उच्च सदन) ने पाकिस्तानी मूल के अमेरिकी नागरिक जाहिद कुरैशी के न्यूजर्सी में डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में नामांकन को मंजूरी दे दी है।...

आयशा सुल्ताना के खि’ला’फ देश’द्रो’ह का के’स लगा तो bjp नेताओ ने दिया इस्तीफा

नई दिल्ली. लक्षद्वीप में स्थानीय बीजेपी नेता ही फिल्म प्रोड्यूसर और एक्ट्रेस आयशा सुल्ताना (Aisha Sultana) के खि'ला'फ देश'द्रो'ह का माम'ला दर्ज किए जाने...

साकिब उल हसन ने गु’स्से में उखाड़ फेके तीनो स्टम्प

नई दिल्ली. बांग्लादेश के ऑलराउंडर शाकिब उल हसन अक्सर वि'वा'दों में घिरे रहे हैं. कभी देश के क्रिकेट बोर्ड से ट'क:रा'व को लेकर, तो...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

ज़ाहिद कुरैशी अमेरिकी जज बनने वाले पहले मुस्लिम

अमेरिकी सीनेट (उच्च सदन) ने पाकिस्तानी मूल के अमेरिकी नागरिक जाहिद कुरैशी के न्यूजर्सी में डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में नामांकन को मंजूरी दे दी है।...

4 भारतीय खिलाड़ी जिन्होंने आज तक नहीं लगाया एल्को’हल को हाथ, न’शे से करते हैं तौबा

भारतीय टीम (Indian Team) के ऐसे कई क्रिकेटर हैं, जो स्मो किंग भी करते हैं और राब का सेवन भी करते हैं. हार्दिक पांड्या...

आयशा सुल्ताना के खि’ला’फ देश’द्रो’ह का के’स लगा तो bjp नेताओ ने दिया इस्तीफा

नई दिल्ली. लक्षद्वीप में स्थानीय बीजेपी नेता ही फिल्म प्रोड्यूसर और एक्ट्रेस आयशा सुल्ताना (Aisha Sultana) के खि'ला'फ देश'द्रो'ह का माम'ला दर्ज किए जाने...

साकिब उल हसन ने गु’स्से में उखाड़ फेके तीनो स्टम्प

नई दिल्ली. बांग्लादेश के ऑलराउंडर शाकिब उल हसन अक्सर वि'वा'दों में घिरे रहे हैं. कभी देश के क्रिकेट बोर्ड से ट'क:रा'व को लेकर, तो...

Recent Comments