मिया खलीफा के बाद “किसान आंदोलन” में कूदे “जॉनी सिंस”? लोगो ने कहा…

360°

गज़ब नमूने हैं देश मे, कोई खबर आती है और वायरल हो जाती है, देश की जनता चक्का जाम में एकदम ठलवी हो रखी है, किसान आंदोलन में कुछ लोग मजे ले रहे हैं। यहां किसान और सरकार में आपस मे ठनी हुई है और इधर किसानों के समर्थक ओर विरोधी एक दूसरे की सोशल मीडिया पर धज्जी उड़ा रहे हैं। मने पेल रहे हैं। अब इस पेलम पाली के चक्कर मे दुनिया के सबसे बड़े पेलू पहलवान का नाम भी जुड़ गया है। बाबा “जॉनी सिंस” कैलिफोर्निया वाले।

ये खबर कितनी सही और कितनी गलत है इसकी बात बाद में करेंगे, पहले जॉनी भइया के बारे में बताते हैं। जोनी सिंस को आज की युवा कौम सबसे ज्यादा जानती है। जॉनी नाम युवाओं में मिया खलीफा के नाम से भी ज्यादा प्रचलित है। मने भैया का भौकाल है। एकदम कतई बहुतै लम्बा ओर बहुतै गहराई तक बहुतै बड़ा और बहुतै जगहों संस्कृतियों में भैया ने झंडे गाड़े हुए है।

इससे पहले हाल ही में मशहूर टेनिस स्टार “मिया खलीफा” किसानों को लेकर सुर्खियों में आ चुकी हैं।

कल हमरे पिताजी न्यूज देखकर हमसे पूछने लगे, “अबे ये मिया खलीफा कौन है?” हम मन ही मन सोचे –“आप वो बात क्यों पूछते हैं, जो बताने के काबिल नहीं है” बहरहाल बिना बताए बच नही सकते थे। हमने बोला मुझे नही पता सच्ची, आप गूगल कर लीजिए। फिर पिताजी मोबाइल में लगातार 7 घण्टे बिजी रहे। पता नहीं उन्हें मिया खलीफा के बारे में ऐसा क्या ज्ञान मिला कि बिना पलके झपकाएं एकटक 7 घंटे उसकी इन्फॉर्मेशन जुटाई, हो सकता है उन्होंने विकिपीडिया से उसका सारा ब्यौरा अपने अंदर समाहित कर लिया हो।

तो खैर, जो बन्दे अभी तक जॉनी भिया के बारे में न जानते हैं उनके लिए भी गूगल सर्च का ऑप्शन अवेलबल है। आपको बता दूं कि जोनी सिंस अमेरिका के इतिहास के अबतक के महान बल्लेबाज हैं, जो विपक्षी टीमों को न जाने कितने ही मैचों में अपने बल्ले से छक्के छुड़ा चुके हैं। विपक्षी जब उनके सामने आता है तो फिर दोबारा आने लायक नहीं बचता। उनका बल्ला ही उनकी सबसे बड़ी मजबूती है।

क्रिकेट के अलावा जॉनी भाई मेडिकल लाइन में भी एक बड़ी हस्ती बन गए हैं, ऐसा माना जाता है कि वो मरे हुए मुर्दे का अंग सूंघकर बता देते है किस मर्ज से मरा है।

बहरहाल अब चलिए खबर के बारे में। जॉनी भइया का एक फेसबुक पोस्ट का स्क्रीनशॉट वायरल हो रहा है जिसमे जॉनी भइया कह रहे हैं – “जो लोग किसानों के बारे में गलत बयानबाजी कर रहे हैं, उन्हें देशद्रोही और खालिस्तानी बता रहे हैं, उन्हें 10 मिनट के लिए मेरे पास भेज दीजिये, अगर वो 10 मिनट के अंदर “किसान मजदूर जिन्दबाद” का नारा लगाते हुए अपने घर नहीं गया तो मेरा नाम बदल देना”

अब ये स्क्रीनशॉट मार्किट में जबरा वायरल हो रखा है। लेकिन इसकी सत्यता की पुष्टि हम करना नहीं चाहते , लाखों लोगों की उम्मीदों को धराशायी करना हमारा मकसद नहीं है। मक़सद सिर्फ और सिर्फ मनोरंजन करना है। इसलिए आप भी जॉनी भइया की धुआंधार बेटिंग का आनंद लीजिये और सही और गलत क्या है इसे पीछे छोड़ दीजिए। आनंद का क्या है? आज है कल नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *