Home 360° विजयलक्ष्मी ने अपनाया इस्लाम अब लोग फ़तिमा के नाम से जानते हैं

विजयलक्ष्मी ने अपनाया इस्लाम अब लोग फ़तिमा के नाम से जानते हैं

मुस्लिम पड़ोस में पली-बढ़ी, भारतीय प्रवासी विजयलक्ष्मी के लिए इस्लाम कबूल करना मुश्किल नहीं था। जब उन्होंने 2015 में एक मुस्लिम शख़्स से शादी की और उन्होंने अपना नाम फ़ातिमा रखा।

2015 में यूएई चले जाने के बाद, विजयलक्ष्मी, जिन्हें अब उनके मुस्लिम नाम फातिमा नौशाद के नाम से जाना जाता है, ने एक बार फिर शाहदा लिया। फातिमा, जो दुबई में मेडकेयर ऑर्थोपेडिक और स्पाइन हॉस्पिटल में एक एनेस्थीसिया तकनीशियन है, का कहना है कि वह हमेशा इस्लामी संस्कृति की बहुत शौकीन थी और धर्म के बारे में अधिक जानना चाहती थी क्योंकि वह अपने गृहनगर केरल में कई मुसलमानों के बीच बढ़ी थी।

खलीज टाइम्स के मुताबिक फातिमा ने कहा, “मेरे पास ऐसे मुसलमानों का सकारात्मक प्रभाव था, जो दयालु, मिलनसार, उदार और सौम्य थे, मुझे लगता है कि यह एक कारण था कि मुझे एक मुस्लिम व्यक्ति से प्यार हो गया और हिं’दू धर्म से इस्लाम में बदलाव करना मुश्किल नहीं था।”

फ़ातिमा ने बताया, “लोग सोच सकते हैं कि मैंने शादी के बाद इस्लाम अपनाया, लेकिन मैंने हिंदू होने के बावजूद भी रोजा रखे। मैंने अपने दोस्तों और पड़ोसियों से इस्लाम और उसके मूल्यों के बारे में सीखा और मेरे माता-पिता ने मुझे कभी नहीं रोका। चूंकि हम कभी भी बहुत धा’र्मिक हिं’दू परिवार नहीं थे, मेरे माता-पिता तब ठीक थे जब मैंने उन्हें मुस्लिम से शादी करने के बारे में बताया।

उन्होने कहा, हालांकि मेरे माता-पिता और रिश्तेदार हिंदू हैं और मेरे ससुराल वाले मुस्लिम हैं, लेकिन हमारे परिवारों में धार्मिक मत’भेदों के कारण कभी कोई झ’ड़प या मुद्दे नहीं थे। यह मेरे लिए, मेरे पति और दो बच्चों के लिए एक बड़ी राहत है।

फातिमा और उनके पति ने भारत में अपना निकाह (इस्लामी विवाह) समारोह किया था, लेकिन उन्होंने यूएई में एक बार फिर से यह सुनिश्चित किया कि उनकी शादी को देश में कानूनी रूप से मान्यता दी जाए। वह कहती है कि वह अपनी पांचों नमाज अदा करने की कोशिश करती है और अंग्रेजी-अरबी भाषा में पवित्र कुरान भी पढ़ती है क्योंकि उसे अरबी सीखना बाकी है।

जब उनसे पूछा गया कि इस्लाम ने उनके जीवन में क्या अंतर किया है, तो फातिमा ने कहा: “इसने मेरे जीवन में असीम शांति ला दी है। मैं अब हर समय इतना शांत महसूस करती हूं। हर बार जब मैं इबादत करती हूं और अपनी सालाह से उठती हूं, तो मुझे बहुत ताजगी महसूस होती है। जब भी मैं सलाह के लिए अल्लाह के सामने व्रत करती हूं तो तनाव या न’कारात्म’क विचार गायब हो जाते हैं और मैं ताजा और खुश महसूस करते हुए नमाज की चटाई से उठती हूं। ”

फातिमा कहती है कि उसे अभी भी इस्लाम के बारे में जानने के लिए बहुत कुछ है और कहती है कि जब भी उसे समय मिलता है, वह अपने फोन का उपयोग अपने नए धर्म के बारे में अधिक जानने और जानने के लिए करती है। ”यह न्यूज़ थे वौइस् से ली गयो है

RELATED ARTICLES

ज़ाहिद कुरैशी अमेरिकी जज बनने वाले पहले मुस्लिम

अमेरिकी सीनेट (उच्च सदन) ने पाकिस्तानी मूल के अमेरिकी नागरिक जाहिद कुरैशी के न्यूजर्सी में डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में नामांकन को मंजूरी दे दी है।...

आयशा सुल्ताना के खि’ला’फ देश’द्रो’ह का के’स लगा तो bjp नेताओ ने दिया इस्तीफा

नई दिल्ली. लक्षद्वीप में स्थानीय बीजेपी नेता ही फिल्म प्रोड्यूसर और एक्ट्रेस आयशा सुल्ताना (Aisha Sultana) के खि'ला'फ देश'द्रो'ह का माम'ला दर्ज किए जाने...

साकिब उल हसन ने गु’स्से में उखाड़ फेके तीनो स्टम्प

नई दिल्ली. बांग्लादेश के ऑलराउंडर शाकिब उल हसन अक्सर वि'वा'दों में घिरे रहे हैं. कभी देश के क्रिकेट बोर्ड से ट'क:रा'व को लेकर, तो...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

ज़ाहिद कुरैशी अमेरिकी जज बनने वाले पहले मुस्लिम

अमेरिकी सीनेट (उच्च सदन) ने पाकिस्तानी मूल के अमेरिकी नागरिक जाहिद कुरैशी के न्यूजर्सी में डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में नामांकन को मंजूरी दे दी है।...

4 भारतीय खिलाड़ी जिन्होंने आज तक नहीं लगाया एल्को’हल को हाथ, न’शे से करते हैं तौबा

भारतीय टीम (Indian Team) के ऐसे कई क्रिकेटर हैं, जो स्मो किंग भी करते हैं और राब का सेवन भी करते हैं. हार्दिक पांड्या...

आयशा सुल्ताना के खि’ला’फ देश’द्रो’ह का के’स लगा तो bjp नेताओ ने दिया इस्तीफा

नई दिल्ली. लक्षद्वीप में स्थानीय बीजेपी नेता ही फिल्म प्रोड्यूसर और एक्ट्रेस आयशा सुल्ताना (Aisha Sultana) के खि'ला'फ देश'द्रो'ह का माम'ला दर्ज किए जाने...

साकिब उल हसन ने गु’स्से में उखाड़ फेके तीनो स्टम्प

नई दिल्ली. बांग्लादेश के ऑलराउंडर शाकिब उल हसन अक्सर वि'वा'दों में घिरे रहे हैं. कभी देश के क्रिकेट बोर्ड से ट'क:रा'व को लेकर, तो...

Recent Comments