बचपन में इस डर के कारण उमरान मलिक को गजनी के नाम से पुकारते थे साथी खिलाड़ी

Sports

आइपीएल में बेहतरीन प्रदर्शन कर सुर्खियां बटोरने वाले सनराइजर्स हैदराबाद के तेज गेंदबाज उमरान मलिक को बचपन में उनके साथी खिलाड़ी डर की वजह से गजनी कहकर पुकारते थे। उमरान ने बुधवार को गुजरात टाइटंस के खिलाफ चार ओवर में 25 रन देकर पांच विकेट झटके थे।

उमरान की बड़ी बहन शहनाज ने दैनिक जागरण को बताया कि भाई को बचपन से ही क्रिकेट खेलने का शौक था और परिवार के लोगों ने कभी उसे खेलने से मना नहीं किया, लेकिन कई बार ऐसा होता था कि उमरान को पकड़कर लाना पड़ता था कि बस अब ज्यादा खेलने की जरूरत नहीं है, कम से कम खाना तो खा लो। धीरे-धीरे जम्मू में उमरान का नाम बन गया और लड़के इसके सामने खेलने से डरने लगे। तेज गेंद डालने के कारण लोग उसे गजनी बुलाने लगे थे।

पहले हम लोग गुर्जर नगर में रहते थे और उमरान वहीं पास में एक मैदान में खेलने जाया करता था। शुरुआत में जब उमरान बहुत छोटा था तो वह बल्लेबाजी करता था। फिर धीरे-धीरे उसने गेंदबाजी करना शुरू की। यहां घरेलू टूर्नामेंटों में उमरान बल्लेबाजी करते थे और उन्होंने शतक भी जड़ा था। बाद में उन्हें गेंदबाजी का शौक चढ़ा।

शहनाज ने कहा, अंडर-19 का ट्रायल देने के बाद यहां रणधीर सिंह मनहास ने उन्हें सिखाया और ट्रेनिंग दी। उसके बाद अंडर-23 के ट्रायल हुए जहां वह खेले। फिर मुश्ताक अली में उमरान का चयन हुआ और बाद में विजय हजारे ट्राफी भी खेली, वहां अच्छे प्रदर्शन से उमरान आगे बढ़े। जब उसे सनराइजर्स के नेट गेंदबाज के तौर पर चुना गया तो हम सभी यही दुआ कर रहे थे कि उसे टीम में जगह मिले। वह भले ही आइपीएल में खेल रहा हो लेकिन उसका पहला प्यार भारतीय टीम की जर्सी पहनना है।

पिता की है सब्जी और फल की दुकान : शहनाज ने बताया कि हम दो बहन और एक भाई हैं। पिता की सब्जी और फल की दुकान है। भाई सबसे छोटा था और बड़ी मुश्किल से मिला था तो उसकी सारी जरूरतें पूरी की जाती थीं। उसकी राह में पैसे की कमी कभी नहीं आई। माता-पिता ने जो बन सका वो किया। मुझे लगता है कि कभी कोच साहब ने भी फीस नहीं ली और उमरान की पूरी मदद की। उन्होंने ही उसे संवारा और आगे बढ़ाया। उमरान को 17 वर्ष की उम्र तक कोई कोचिंग नहीं मिली और ना ही कभी वह चमड़े की गेंद से खेला था। वह मोहल्ला टेनिस बाल टूर्नामेंट खेलता था जिससे पांच सौ से 3000 रुपये प्रति मैच तक मिलते थे।

जम्मू कश्मीर क्रिकेट टीम में कश्मीरी खिलाड़ियों का दबदबा था लेकिन उमरान की मदद उनके ही साथी खिलाड़ी अब्दुल समद ने की जो खुद भी सनराइजर्स टीम का हिस्सा हैं। समद ने उनकी गेंदबाजी के वीडियो वीवीएस लक्ष्मण और टाम मूडी को जून 2020 में भेजे। सनराइजर्स को वीडियो पसंद आए और उमरान नेट गेंदबाज के तौर पर टीम के साथ जुड़े। कोच रणधीर सिंह मनहास ने कहा, ‘मुझे लगा कि उमरान खास है और टीम के सीनियर तेज गेंदबाज रामदयाल को भी ऐसा ही लगा। राम ने कहा कि इस लड़के का भविष्य उ”वल है।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *