Home 360° तुर्की के तय्यब का सोफ़िया मस्जिद पर बड़ा बयान,सोफिया मस्जिद का इतिहास...

तुर्की के तय्यब का सोफ़िया मस्जिद पर बड़ा बयान,सोफिया मस्जिद का इतिहास देख कर हैरान रह जाओगे

जैसे कि आप सभी जानते है कि ब्रिटिश और कुछ अन्य शोधकर्ताओं ने दुनिया की सबसे महत्वपूर्ण इमारतों में से एक के लंबे-छिपे तथ्यों को उजागर करने में सफलता हासिल की है। एक दशक से अधिक निरंतर अनुसंधान ने यूरोप के इस्तांबुल में सोफिया के पूर्व चर्च के मूल डिजाइन और भूमिगत स्मारकों और लगभग एक हजार वर्षों के लिए दुनिया की सबसे बड़ी ऐतिहासिक इमारत को उजागर किया है।

तुर्की के इस्तांबुल स्थित ऐतिहासिक स्थल हागिया सोफिया को मस्जिद में बदलने के बाद वहां पहली बार शुक्रवार (24 जुलाई) को नमाज अदा की गई। तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगन ने इसका नेतृत्व किया। एर्दोगन ने हाल ही में इस इमारत को नमाज के लिए फिर से खोलने का आदेश दिया था, जिससे ईसाई समुदाय को गहरी ठेस पहुंची।

शोधकर्ताओं ने पहली बार मूल छठी शताब्दी के चर्च के अवशेष, एक लंबे समय से खोई हुई एक किलोमीटर लंबी सुरंग और एक विशाल इमारत के नीचे भूमिगत तहखाने की एक श्रृंखला को उजागर किया है। नई खोजों का विशेष महत्व है क्योंकि सोफिया दुनिया की सबसे महत्वपूर्ण राजनीतिक, धार्मिक और स्थापत्य इमारतों में से एक है।1500 साल प्राचीन विरासत समेटे यूनेस्को की विश्व विरासत में शामिल हागिया सोफ़िया म्यूज़ियम को लेकर बड़ी तब्दीली हुई है.

तुर्की राष्ट्रपति रेचेप तैय्यब एर्दोगन ने इस ऐतिहासिक म्यूजियम को दोबारा मस्जिद में बदलने का आदेश दिया है. तुर्की की एक अदालत ने भी शुक्रवार को ही इस बारे में अपना फैसला सुनाया था. इस तरह 1934 की कैबिनेट का किया गया फैसला रद्द कर दिया गया. इस ऐतिहासिक इमारत ने समय जितने चक्र देखें हैं उसी के अनुसार कई बार अपनी रंगतों को भी बदलते देखा है. जब यह इमारत बनाई गई तब यह एक भव्य चर्च हुआ करती थी और शताब्दियों तक यह चर्च ही रही. फिर इसे मस्जिद में तब्दील कर दिया गया.

इसका मुख्य उद्देश्य राजनीतिक दर्शन को लागू करना था जो आज भी दुनिया के कई हिस्सों में विद्यमान है, अर्थात् वैचारिक और राजनीतिक शक्ति का संलयन, चर्च और राज्य का एकीकरण। क्या सोफिया इस राजनीतिक विचारधारा का शक्तिशाली प्रतीक थी और इसके निर्माता, अंतिम रोमन (शुरुआती बीजान्टिन) राजा जस्टिनियन की सरकार की शैली का प्रतिबिंब था?जस्टिनियन, सबसे महान रोमन सम्राटों में से एक, एया सोफिया का निर्माण किया

पश्चिमी यूरोप में रोमन साम्राज्य के पतन के बाद सिर्फ दो पीढ़ियों तक अपनी केंद्रीकृत राजनीतिक प्रणाली की स्थापना की, दक्षिण पूर्वी यूरोप और मध्य पूर्व के कुछ हिस्सों को शाही शक्ति के तहत छोड़ दिया। सरकार बची थी। नतीजतन, जस्टिनियन की नई शक्तिशाली सरकार ने पूर्वी यूरोपीय इतिहास पर कुछ प्रभाव डाले जो पश्चिमी यूरोप में दिखाई नहीं देते हैं, जहां चर्च और राज्य अलग-अलग कार्य करते रहे, ताकि वहां की राजनीति केंद्रीकृत होने के बजाय मुक्त हो। अच्छा काम करते रहें।

RELATED ARTICLES

सऊदी अरब ने बुलाई विश्व मु’स्लिम संगठन OIC की इमरजेंसी बैठक, हुआ बड़ा फ़ैसला –

यरुशमल और गज़ा में टकराव के कारण हालात बदतर हैं और इसी को देखते हुए सऊदी अरब के अनुरोध पर ओआईसी ने यह बैठक...

इजराइल को लेकर राशिद खान ने दिया बाद बयान

आज कल जो महो फिलिस्तीन ओर इज़राइल के बीच चल रहा है उसी के ऊपर अफगानिस्तान के सीनियर क्रिकेटर राशिद खान इजरायल और फिलिस्तीन...

इस देश मे आसमान से हो रही चूहों की बारिश लोग दहशत में

ऑस्ट्रेलिया का एक वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है जिसमें चूहों की बारिश होते हुए देखा जा सकता है. इस वीडियो...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

सनी लियोनी को है इन लड़कों की तलाश, ट्विटर पर फोटो पोस्ट कर कहा ‘इन्हें ढूंढने में मेरी मदद करें’

बॉलीवुड एक्ट्रेस सनी लियोन अक्सर किसी ना किसी वजह से खबरों में बनी रहती हैं। सोशल मीडिया पर अपनी बोल्ड फोटो और वीडियोज के...

जब मुर्गे ने कहा ‘अल्लाह अल्लाह’ सुनकर रह जाओगे दंग, खूबसूरत वीडियो देखें

सोशल मीडिया पर कब क्या देखने को मिल जाए, ये कोई नहीं जानता. कई बार चीजें मजेदार होती हैं, जिसे देखकर लोग गदगद हो...

सऊदी अरब ने बुलाई विश्व मु’स्लिम संगठन OIC की इमरजेंसी बैठक, हुआ बड़ा फ़ैसला –

यरुशमल और गज़ा में टकराव के कारण हालात बदतर हैं और इसी को देखते हुए सऊदी अरब के अनुरोध पर ओआईसी ने यह बैठक...

इजराइल को लेकर राशिद खान ने दिया बाद बयान

आज कल जो महो फिलिस्तीन ओर इज़राइल के बीच चल रहा है उसी के ऊपर अफगानिस्तान के सीनियर क्रिकेटर राशिद खान इजरायल और फिलिस्तीन...

Recent Comments