तुर्की के राष्ट्पति तैय्यब एर्दोगन ने whats app को लेकर दिया बड़ा बयान,सोशल मीडिया पर खबर वायरल

World

तुर्की के राष्ट्रपति रेचप तैयप एर्दोगन के मीडिया ऑफिस ने सोशल मीडिया प्लेटफार्म WhatsApp को छोड़ने का ऐलान किया है। इतना ही नहीं, तुर्की के रक्षा मंत्रालय ने भी कहा है कि वह अब वॉट्सऐप का उपयोग नहीं करेगा।तुर्की के राष्ट्रपति रेचप तैयप एर्दोगन के मीडिया ऑफिस ने सोशल मीडिया प्लेटफार्म WhatsApp को छोड़ने का ऐलान किया है।

इतना ही नहीं, तुर्की के रक्षा मंत्रालय ने भी कहा है कि वह अब वॉट्सऐप का उपयोग नहीं करेगा। हाल में ही वाट्सऐप ने नई प्राइवेसी पॉलिसी को जारी किया है, जिसको स्वीकार नहीं करने पर यूजर के अकाउंट को डिलीट भी किया जा सकता है। इस पॉलिसी को स्वीकार करने के बाद यूजर के डेटा को फेसबुक समेत कंपनी के कई प्लेटफॉर्म्स पर शेयर किया जाएगा।

जिसके बाद से यूजर्स अपनी डेटा की सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं।ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के अनुसार, राष्ट्रपति एर्दोगन ने 11 जनवरी को अपने वॉट्सऐप ग्रुपों को एन्क्रिप्टेड मैसेजिंग ऐप BiP पर ट्रांसफर करने का आदेश दिया है। BiP तुर्की का एक एन्क्रिप्टेड मैसेजिंग ऐप है, जिसका स्वामित्व टर्कसेल इलेटिसिम हिजमेटलेरी एएस के पास है। अब सभी लोगों को BiP पर बने अकाउंट के जरिए राष्ट्रपति कार्यालय और रक्षा मंत्रालय से सूचनाएं दी जाएंगी।

राष्ट्रपति के वॉट्सऐप छोड़ने के ऐलान के बाद तुर्की में इस अमेरिकी सोशल मीडिया कंपनी के खिलाफ आवाज तेज हो गई है। तुर्की में लोग वॉट्सऐप को छोड़कर BiP ऐप को तेजी से ज्वाइन कर रहे हैं। तुर्कसेल कंपनी ने रविवार को बताया कि पिछले 24 घंटों में लगभग 1 मिलियन (10 लाख) नए उपयोगकर्ता बीईपी मैसेंजर से जुड़े हैं। तुर्कसेल ने कहा कि यह एप्लिकेशन 2013 में लॉन्च होने के बाद से 53 मिलियन से अधिक बार डाउनलोड किया गया है। वाट्सऐप ने नए साल पर अपनी प्राइवेसी पॉलिसी को अपडेट किया है।

जिसे स्वीकार करने के लिए यूजर्स के पास कंपनी की तरफ से नोटिफिकेशन भेजा जा रहा है। अगर यूजर्स ने 8 फरवरी तक इस पॉलिसी को स्वीकार नहीं किया तो उनका अकाउंट डीलिट भी हो सकता है। जानकारों की मानें तो नई पॉलिसी से प्राइवेसी को खबरा बढ़ेगा क्योंकि वॉट्सऐप पर आपके सारे कंटेंट की निगरानी की जा रही होगी।वॉट्सऐप की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि पॉलिसी से कंपनी को पता होगा कि कौन सा कंटेंट ज्यादा फॉरवर्ड किया जा रहा है। फेक न्यूज को ट्रैक करने में आसानी होगी। इसके साथ ही यह कॉमर्स साइट के प्रॉडक्ट को स्टेटस पर शेयर करेंगे, जिससे फेसबुक इंस्टाग्राम भी उससे जुड़े ऐड दिखाएगा। किसी की निजी चैट प्रभावित नहीं होगी।

यूजर्स के इन डेटा पर नजर रख सकती है कंपनी
नई पॉलिसी पर एक और बवाल भी मचा हुआ है, क्यूंकि वॉट्सऐप लोगों के बीच काफी पॉपुलर है। स्मार्टफोन का इस्तेमाल करने वाले प्रत्येक व्यक्ति के पास यह कॉमन ऐप की तरह है। अब इसके माध्यम से अलग-अलग तरह के डेटा पर नजर रहेगी। इनमें एडवरटाइजिंग डेटा, पर्चेज हिस्ट्री, कोर्स लोकेशन, फोन नंबर, ईमेल एड्रेस, कॉन्टैक्ट्स, प्रॉडक्ट इंटरैक्शन, क्रैश डेटा, गैलरी, परफॉर्मेंस डेटा जैसी जानकारियों शामिल रहेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *