ज्ञानवापी मामले में तसलीमा नसरीन ने दिया बड़ा बयान, ट्विटर पर लोगो ने दिए ऐसे जवाब

World news

बांग्लादेश की जानी-मानी लेखिका तसलीमा नसरीन सोशल मीडिया पर काफी ऐक्टिव रहती हैं। उनके कई बयानों को लेकर विवाद भी होता रहता है। अब ज्ञानवापी के मामले में भी नसरीन ने सोशल मीडिया पर एक ट्वीट करके सलाह दी है। उन्होंने कहा है कि वाराणसी के ज्ञान वापी परिसर को लेकर विवाद करने से अच्छा है कि एक बड़ा प्रार्थना स्थल बना दिया जाए।

लेखिका ने ट्वीट में लिखा, इससे अच्छा है कि एक बड़ा सा प्रार्थना स्थल हो जो कि सबके लिए हो। इसमें 10 कमरे हों, एक कमरा हिंदुओं के लिए, एक कमरा मुस्लिमों के लिए, एक ईसाई के लिए, एक बौद्ध के लिए, एक सिख के लिए और एक यहूदी के लिए। एक कमरा जैन के लिए और एक पारसी के लिए। इसमें एक लाइब्रेरी, आंगन, बालकनी और टॉइलट हो। इसके अलावा प्रार्थना के लिए एक कॉमन रूम भी हो।

तसलीमा नसरीन की यह सलाह बहुत सारे ट्विटर यूजर को पसंद नहीं आई। एक यूजर ने लिखा, हिंदु’ओं के लिए मंदिर ज्यादा महत्वपूर्ण होता है। मंदिर में बहुत कुछ होता है। यहां किसी का नियंत्रण नहीं होता। हॉल बनाना बेकार है।

एक अन्य यूजर ने कहा, आदरणीय मैडम, यह नमूना दुनिया में कहीं कामयाब नहीं हुआ है। अच्छा होगा कि सभी वर्गों को अलग-अलग जगह दी जाए। सभी को एक दूसरे की निजता और पूजा करने के अधिकार का सम्मान करना चाहिए। एक यूजर ने कहा, इस सलाह के लिए धन्यवाद लेकिन इसे बांग्लादेश और पाकिस्तान में लागू करने की जरूरत है।

बता दें कि ज्ञानवापी मस्जि’द में हिंदु’ओं ने पूजा का अधिकार मांगा है। याचिकाकर्ता ने परिसर का सर्वे कराने की मांग की थी। जिसके बाद तीन दिन तक एक कमिश्नर की देखरेख में सर्वे किया गया। सोमवार को हिं’दू पक्षकार ने दावा किया कि यहां वजूखाने में शिवलिं मिला है। अब कोर्ट ने इस परिसर को सील कर दिया है। मंगलवार को मु’स्लिम पक्ष की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होनी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *