तनवीर बने ऑस्ट्रेलियाई टीम में जगह पाने वाले भारतीय मूल के दूसरे खिलाड़ी

Sports

ऑस्ट्रेलिया ने न्यूजीलैंड के खिलाफ (Australia vs New Zealand) 27 फरवरी से शुरू हो रही पांच मैचों की टी20 इंटरनेशनल सीरीज के लिए टीम का ऐलान कर दिया है. पांच मैचों की इस सीरीज के लिए ऑस्ट्रेलियाई टीम में भारतीय मूल के 19 साल के तनवीर संघा (Tanveer Sangha) को भी चुना गया है. तनवीर संघा फिलहाल बिग बैश लीग (BBL) में सिडनी थंडर (Sydney Thunder) के लिए खेल रहे हैं. बीबीएल में इस युवा बॉलर ने अपनी गेंदबाजी से सभी को खासा प्रभावित किया है.

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम (Australia Cricket Team) में चुने जाने के साथ ही तनवीर संघा ने इतिहास रच दिया है. वह भारतीय मूल के दूसरे ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी हैं, जो येलो जर्सी पहनेंगे. तनवीर से पहले 2015 में गुरेंद्र संधू ऑस्ट्रेलियन टीम में चुने गए थे और भारत के खिलाफ मेलबर्न में ही खेले थे. संधू एक पंजाबी परिवार से ताल्लुक रखते हैं. उनके माता-पिता स्टाअर्ट क्लार्क और ब्रेंस्बी कूपर दोनों का जन्म भारत में हुआ था.

जालंधर के तनवीर संघा का ऑस्ट्रेलियन टीम का सफर सनसनीखेज है. सिडनी थंडर के लिए वह शानदार फॉर्म में हैं. बिग बैश लीग में वह अबतक 14 मैचों 21 विकेट ले चुके हैं. उनकी लेग स्पिन बेहद शानदार है. हालांकि, आईसीसी अंडर-19 में उनका प्रदर्शन निराशाजनक रहा था.

सिडनी में रह रहे भारतीय मूल के तनवीर संघा उस समय सुर्खियों में आए, जब ऑस्ट्रेलियन लेग स्पिनर फवाद अहमद की उन पर नजर पड़ी. तनवीर ने अपने करियर की शुरुआत तेज गेंदबाज के रूप में की थी, लेकिन किशोरावस्था तक पहुंचते-पहुंचते वह लेग स्पिनर के बन गए. सिडनी क्लाब क्रिकेट पर उनका प्रभाव पड़ा. जल्द ही वह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहुंच गए. क्लब क्रिकेट में ऑस्ट्रेलिया की तेज पिचों पर तैयार संघा अंडर-19 आईसीसी वर्ल्ड कप में वह ऑस्ट्रेलिया के लिए विकेट लेने वाले मुख्य गेंदबाज रहे. उन्होंने 6 मैचों में 15 विकेट लिए. 14 रन देकर 5 विकेट उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा था.

तनवीर के पिता जोगा अपने बेटे की इस कामयाबी से काफी खुश हैं. जोगा 1997 में जालंधर से 20 किलोमीटर दूर एक गांव रहीमपुर कला संघियन से सिडनी के दक्षिण पश्चिम उपनगर में चले आए थे. वह सिडनी में ट्रैक्सी ड्राइवर बनने से पहले ब्रिस्बेन में एक फॉर्म में काम करते थे. जोगा ने इंडियन एक्सप्रेस को दिए एक इंटरव्यू में कहा, ”मैंने भारत में कभी क्रिकेट नहीं देखा. मैं कबड्डी, वॉलीबॉल और रेसलिंग खेलता था. यहां सर्दियों में रेसलिंग टूर्नामेंट होते हैं और तनवीर कई बार मेरे साथ जाता था. वह जूनियर बाउट्स में खेलता था.”

उन्होंने आगे कहा, ”जब तनवीर 10 साल का था, हमने उसका दाखिला इंग्लेबर्न आरएसएल क्लब में क्रिकेट खेलने के लिए करवा दिया था. मैं ही तनवीर को क्लब छोड़कर और फिर लेने जाता था. इसकी वजह से मुझे अपनी कई टैक्सी राइड्स भी छोड़नी पड़त थी. इसकी भरपाई के लिए मैं अलसुबह या देर रात को काम करता था.” बिग बैश लीग में संघा अक्सर डैथ ओवरों में शानदार भूमिका निभाते हैं. फैन्स उन्हें नाथन लायन का उत्तराधिकारी कहने लगे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *