स्विट्जरलैंड से मुस्लिमो को लेकर आई बुरी खबर,किसी को नही थी उम्मीद

360°

स्विट्जरलैंड में बुर्के पर बैन के मसले पर आज रेफरेंडम हुआ. जिसमें 50 फीसदी से ज्यादा लोगों ने इसके पक्ष में वोट किया. फ्रांस ने साल 2011 में ही चेहरे को पूरी तरह से ढकने वाले कपड़े पहनने पर बैन लगा दिया था. वहीं डेनमार्क, ऑस्ट्रिया, नीदरलैंड और बुल्गेरिया में भी सार्वजनिक जगहों पर बुर्का पहनने पर पाबंदियां हैं.स्विट्जरलैंड में बुर्के पर बैन को लेकर चल रही बहस के बीच रविवार (7 मार्च) को इसपर जनमत संग्रह यानी कि रेफरेंडम कराया गया.

जनमत संग्रह में सार्वजनिक स्थानों पर बुर्के पर बैन के लिए लोगों ने मतदान किया. रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, अभी तक के परिणामों के आधार पर 50 फीसदी से ज्यादा लोगों ने बैन के पक्ष में मतदान किया. करीब 54 प्रतिशत मतदाता बुर्का, नकाब को गैरकानूनी घोषित करने के पक्ष में थे.  स्विस मतदाताओं ने दुकानों, रेस्तरां और सड़कों पर अपने चेहरे को पूरी तरह से कवर करने से लोगों को बैन करने की पहल के पक्ष में वोट डाले. हालांकि, स्विट्जरलैंड की संसद और देश की संघीय सरकार का गठन करने वाली सात सदस्यीय कार्यकारी परिषद ने इस जनमत संग्रह प्रस्ताव का विरोध किया. 

दरअसल, बुर्का सार्वजनिक स्थानों पर पहनने की छूट होनी चाहिए या नहीं, इस बात का फैसला करने के लिए जनमत संग्रह का सहारा लिया गया. जिसपर स्विट्जरलैंड की जनता ने 7 मार्च को मतदान किया. इसके साथ ही देश के प्रत्यक्ष लोकतांत्रिक सिस्टम में कुछ बदलावों को लेकर भी जनता की राय मांगी गई. इन सब मुद्दों पर जनमत संग्रह के दौरान मतदान हुआ.  ब्रॉडकास्टर एस आर एफ के अनुमान जो कि आंशिक परिणामों के आधार पर हैं के मुताबिक, करीब 54 फीसदी लोगों ने अभी तक बुर्का बैन करने के प्रपोजल का समर्थन किया है. इससे पहले जनमत सर्वेक्षणों ने भी संकेत दिए थे कि बुर्के पर प्रतिबंध कानून बन जाएगा. 

वहीं इस मसले पर स्विट्जरलैंड के मुसलमानों का कहना है कि दक्षिणपंथी पार्टियां वोटर्स को लुभाने के लिए मुसलमानों को दुश्मन की तरह पेश कर रही हैं. कई मुस्लिमों ने आगाह किया है कि इस तरह के बैन से देश में लोगों के बीच मतभेद गहरे हो सकते हैं.गौरतलब है कि फ्रांस ने साल 2011 में ही चेहरे को पूरी तरह से ढकने वाले कपड़े पहनने पर बैन लगा दिया था. वहीं डेनमार्क, ऑस्ट्रिया, नीदरलैंड और बुल्गेरिया में भी सार्वजनिक जगहों पर बुर्का पहनने पर पाबंदियां हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *