Home India बिहार की राजनीति में फिर उतर रहे शाहनवाज, 'मुस्लिम कार्ड की रणनीति...

बिहार की राजनीति में फिर उतर रहे शाहनवाज, ‘मुस्लिम कार्ड की रणनीति के पीछे भाजपा

शाहनवाज बहुत बड़ा नाम है बिहार में भाजपा ने शाहनवाज हुसैन को विधान परिषद का उम्मीदवार बना सीमांचल में अपनी पैठ बनाने के लिए मुस्लिम कार्ड खेला है। गत बिहार विधानसभा चुनाव में ओवैसी ने अपनी पार्टी के 24 उम्मीदवार दिए थे, जिनमें पांच जीते। बाकी सीटों पर महागठबंधन को नुकसान पहुंचाया था। इस तरह ओवैसी ने उस क्षेत्र में पैठ बना ली है।

महागठबंधन की जड़ें ओवैसी ने खोदी और अब भाजपा ने इसका लाभ लेने की रणनीति पर काम शुरू कर दिया है। शाहनवाज हुसैन न सिर्फ सियासत के जाने-माने चेहरा हैं, बल्कि सीमांचल से ही उनका राजनीति में उदय हुआ है। किशनगंज से सीमांचल के जाने माने नेता तसलीमुद्दीन को हराकर पहली बार सांसद बने। इसके बाद भागलपुर से दो बार सांसद रहे।


इनके बहाने भाजपा सीमांचल में अल्पसंख्यकों के बीच अपनी पैठ बनाने की रणनीति पर काम कर रही है। शाहनवाज हुसैन को विधान परिषद भेजने का फैसला कर पार्टी ने अल्पसंख्यक कार्ड खेला है।बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में भाजपा ने भले ही किसी मुसलमान को टिकट नहीं दिया, पर शाहनवाज को आगे कर पार्टी ने अल्पसंख्यक समुदाय को साधने की कोशिश शुरू कर दी है। भाजपा के रणनीतिकारों की मानें तो शाहनवाज सीमांचल में पार्टी की सियासत के लिए अहम साबित हो सकते हैं।

विस चुनाव के बाद ही भाजपा में किसी अल्पसंख्यक चेहरे को आगे करने की रणनीति पर मंथन चल रहा था। पहले पार्टी ने राज्यस्तरीय नेता को ही आगे लाने की योजना बनाई पर कोई ऐसा चेहरा नहीं दिखा जो ओवैसी फैक्टर को मात देने के साथ ही भाजपा के लिए असरदार साबित हो। तब रणनीतिकारों ने राष्ट्रीयस्तर पर बेबाकी से हर मंच पर भाजपा का मजबूती से पक्ष रखने वाले शाहनवाज को विधान परिषद में भेजकर अल्पसंख्यक कार्ड खेला।


सुपौल में 12 दिसम्बर 1968 को जन्मे शाहनवाज ने दिल्ली आईआईटी से इंजीनियरिंग में डिप्लोमा किया है। वह हिंदी, अंग्रेजी, उर्दू व अरबी जानते हैं। भारतीय जनता युवा मोर्चा में राष्ट्रीय सचिव रहते युवा नेता की पहचान बनाई। पहली बार किशनगंज से वर्ष 1999 में मो. तसलीमुद्दीन को हराकर 13वीं लोकसभा के सदस्य बने। वहीं, सुशील कुमार मोदी के इस्तीफे के बाद खाली हुई भागलपुर सीट से 2006 में उपचुनाव जीतकर लोकसभा पहुंचे।

इसके बाद वर्ष 2009 के चुनाव में भी भागलपुर से लोकसभा सांसद बने।
सांसद रहने के दौरान वे सबसे पहले 14 अक्टूबर, 1999 को केंद्रीय खाद्य आपूर्ति राज्यमंत्री बने। एक मई 2001 को केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री बने। सबसे कम उम्र में कैबिनेट मंत्री बनने रिकॉर्ड बनाने वाले शाहनवाज देश के कपड़ा मंत्री भी रह चुके हैं।

RELATED ARTICLES

साउथ की सुपरस्टार ने कहा: कौन है ए आर रहमान, मैं नहीं जानता,जनता ने दिया बेहतरीन जवाब

साउथ फिल्म इंडस्ट्री के पापुलर एक्टर नंदमुरी बालकृष्ण ने अपने एक इंटरव्यू के दौरान ऐसा बयान दिया है जिसके बाद लोगों ने उन्हें ट्रोल...

सीएम ममता बनर्जी की दुआ हुई कुबूल, दिया पश्चिम बंगाल के मुसलमानों को शानदार तोहफा –

पश्चिम बंगाल में नई सरकार का गठन हो चुका है। ममता बनजी ने अपने कैबिनेट में 43 मंत्रियों को भी शामिल किया है। ममता...

जदयू नेता ने कहा “मैं इस्लाम कुबूल कर लूंगा..”

जदयू (JDU) के संसदीय बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा इन दिनों बिहार यात्रा पर निकले हुए हैं. बिहार यात्रा के दौरान लगातार लोगों...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

पार्लियामेंट में आज़म खान को लेकर अखिलेश यादव ने लिया बड़ा फ़ैसला

समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के वरिष्ठ नेता आजम खान (Azam Khan) को दोबारा तबीयत खराब होने पर सोमवार शाम राजधानी के एक निजी अस्पताल...

पति Raj Kundra की तरह Shilpa Shetty भी रही हैं कई विवादों में, ये हैं सबसे बड़े मामले

राज कुंद्रा के अरेस्ट के बाद से ही एक्ट्रेस शिल्पा शेट्टी सुर्खियों में है वैसे बता दे की उनके पति राज पर आरोप हैं...

Interview Question : वह कौन सी चीज़ है जो खेत में पैदा हो तो हर कोई खाता है, मगर घर में पैदा हो तो...

देश भर में जितने भी छोटे से बड़े प्रतियोगिता परीक्षा होते है, उन सभी में जनरल नॉलेज (General Knowledge) विषय से जुड़े प्रश्न अवश्य...

हेदाया वहबा ने रियो 2016 में भी कांस मैडल हासिल किया था अब 2021टोकियो में मैडल मिला

टोक्यो ओलंपिक में मेडल जीतने वाले पहली मुस्लिम खातून और मिस्र के लिए भी मैडल जीतने वाली पहली ख़ातून हैं हेदाया वहबा। हेदाया वहबा ने...

Recent Comments