Home 360° सऊदी अरब की 6 जगहों को यूनेस्को की विश्व विरासत सूची में...

सऊदी अरब की 6 जगहों को यूनेस्को की विश्व विरासत सूची में शामिल किया गया

यूनेस्को की विश्व विरासत की सूची में सऊदी अरब के ‘रॉक आर्ट हिमा’ को छठे धरोहर के रूप में शामिल किया गया है। संयुक्त राष्ट्र संगठन ने 24 जुलाई को इस बात का खुलासा किया। दक्षिण-पश्चिम सऊदी अरब में नजरान प्रांत में स्थित, यह दुनिया के सबसे बड़े रॉक कला स्थलों में से एक है। आइकॉनिक रॉक साइट में 34 से अधिक अलग-अलग जगह हैं, जिनमें रॉक शिलालेख और प्राचीन अरब कारवां मार्ग के साथ कुएं शामिल है।

यूनेस्को की विश्व धरोहर सूची में शामिल होने वाली सऊदी की छठीं धरोहर बनी हिमा

यूनेस्को की आधिकारिक घोषणा 23 जुलाई को की गई थी, जिसमें लिखा था-सऊदी अरब के संस्कृति मंत्री, प्रिंस बद्र बिन अब्दुल्ला बिन फरहान अल सऊद ने भी लिस्ट आने के बाद खुशी जाहिर की है। सूत्रों के अनुसार रॉक आर्ट हिमा अरब के दक्षिणी हिस्सों से आने-जाने वाले व्यापार और हज मार्गों पर कारवां के लिए एक चैनल था। सालों से साइट को पार करने वाले लोगों ने शिकार, वन्य जीवन, पौधों, प्रतीकों, और उस समय उपयोग किए जाने वाले औजारों के साथ-साथ हजारों शिलालेखों का चित्रण करते हुए रॉक कला का एक विस्तार संग्रह छोड़ा है।

यह जगह 557 वर्ग किलोमीटर (215 वर्ग मील) में फैली हुई है। इसकी चट्टान की समृद्ध विरासत ने 1976 के बाद ही सऊदी अरब के पुरातन विभाग का ध्यान अपनी ओर खींचा, जब विभिन्न स्थलों की जांच चल रही थी। अपने ऐतिहासिक मूल्यों के बारे में इसे ऑस्ट्रेलिया, भारत और दक्षिण अफ्रीका में पाए जाने वाले अन्य उदाहरणों के साथ-साथ दुनिया के सबसे अमीर लोगों में माना जाता है। सऊदी अरब में अन्य यूनेस्को साइटों में हेल क्षेत्र में रॉक आर्ट, ऐतिहासिक जेद्दा, मक्का का गेट, विज्ञापन-दिरिया में अत-तुरीफ जिला, अल-हिज्र पुरातत्व स्थल (मदैन सालीह), अल-अहसा ओएसिस, एक विकसित सांस्कृतिक लैंडस्केप, विज्ञापन-दिरिया जिले में अत-तुरैफ जिला आदि।

सऊदी अरब में विश्व धरोहर स्थलों की सूची रॉक आर्ट हिमा के अलावा, सऊदी अरब 5 अन्य यूनेस्को विश्व धरोहर स्थलों को 2008 से 2018 तक शामिल किया गया था।

अल-अहसा ओएसिस – प्राकृतिक सुंदरता के साथ इसमें उद्यान, नहरें, झरने, कुएं, और एक जल निकासी झील, साथ ही साथ ऐतिहासिक इमारतें, शहरी कपड़े और पुरातात्विक स्थल शामिल है।

अल-हिजर पुरातत्व स्थल- इस साइट में पहली शताब्दी ईसा पूर्व से पहली शताब्दी ईसवी तक के सजाए गए अग्रभागों के साथ अच्छी तरह से संरक्षित स्मारकीय मकबरे शामिल हैं।
अत-तुरैफ जिला – यह दुर्लभ नजदी स्थापत्य शैली को दिखाता है, जो अरब प्रायद्वीप के केंद्र के लिए अनोखी है और इसमें कई महलों के अवशेष और यहां के आसपास बनी एक शहरी बस्ती शामिल है।

ऐतिहासिक जेद्दा – हिंद महासागर के व्यापार मार्गों के लिए एक प्रमुख बंदरगाह, मक्का को माल भेजता है, यह मक्का के मुस्लिम तीर्थयात्रियों के लिए प्रवेश द्वार के लिए भी प्रसिद्ध है जो समुद्र के रास्ते पहुंचे थे।

ओला क्षेत्र में रॉक कला – यह संपत्ति दस हजार साल के इतिहास को कवर करने वाले मानव और जानवरों के आंकड़ों के कई रूप दिखाती है।Rभारत से सहभाग

RELATED ARTICLES

‘बदतमीज होने का एक फायदा है फालतू लोग दोबारा मुंह नहीं लगते’, देखें क्या है मामला

भारतीय तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी की पत्नी हसीन जहां आए दिन सोशल मीडिया पर अपनी अलग-अलग तरह के पोस्ट और बयानों के कारण सुर्खियों...

आगरा में रातों-रात करोड़पति बन गया बाइक मैकेनिक, खाते में निकले 1.20 करोड़, जानें क्या है मामला

बरहन के खांडा क्षेत्र में भारतीय स्‍टेट बैंक की शाखा का मामला। करीब 1.20 करोड़ रुपये का ट्रांजेक्‍शन बाइक मैकेनिक के खाते में हुआ...

Tony ने क़ुबूल किया इस्लाम अब नया नाम है हबीबी

उलमा ए अहले सुन्नत ही है जो हुज़ूर ﷺ की इश्क और तौहीद सिखाते है। और पूरी दुनिया में दिन ए इस्लाम का डंका...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

‘बदतमीज होने का एक फायदा है फालतू लोग दोबारा मुंह नहीं लगते’, देखें क्या है मामला

भारतीय तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी की पत्नी हसीन जहां आए दिन सोशल मीडिया पर अपनी अलग-अलग तरह के पोस्ट और बयानों के कारण सुर्खियों...

ऐश्वर्या राय ने शाहरुख खान पर सरेआम निकाला गुस्सा कहा मुझे कई फिल्मों से

बॉलिवुड के बादशाह शाहरुख खान और ऐश्वर्या राय ने साथ में कम ही फिल्में की हैं मगर इनकी जोड़ी को हमेशा पसंद किया गया...

आगरा में रातों-रात करोड़पति बन गया बाइक मैकेनिक, खाते में निकले 1.20 करोड़, जानें क्या है मामला

बरहन के खांडा क्षेत्र में भारतीय स्‍टेट बैंक की शाखा का मामला। करीब 1.20 करोड़ रुपये का ट्रांजेक्‍शन बाइक मैकेनिक के खाते में हुआ...

Tony ने क़ुबूल किया इस्लाम अब नया नाम है हबीबी

उलमा ए अहले सुन्नत ही है जो हुज़ूर ﷺ की इश्क और तौहीद सिखाते है। और पूरी दुनिया में दिन ए इस्लाम का डंका...

Recent Comments