UP सरकार के मंत्री बोले-बुर्के पर पाबंदी लगवाएंगे, सांसद एस टी हसन ओर दानिश अली ने ऐसे किया पलटवार

360°

यूपी सरकार के मंत्री के बुर्के पर पाबंदी लगाने वाले बयान पर सियासत गर्मा गई है. यूपी के संसदीय कार्य राज्य मंत्री आनन्द स्वरूप शुक्ल ने बुधवार को कहा कि बुर्का एक अमानवीय व्यवहार और गलत परंपरा है. देश में तीन तलाक की तर्ज पर मुस्लिम महिलाओं को बुर्के से भी आजादी दिलाई जाएगी. सपा सांसद एसटी हसन और बसपा सांसद दानिश अली ने इसको लेकर यूपी सरकार को घेरा है.

आनंद स्वरूप शुक्ल ने दावा किया कि कई मुस्लिम देशों में भी बुर्के पर पाबंदी है और यह अमानवीय रवैया और कुप्रथा है. मंत्री ने यह भी कहा कि विकसित सोच वाले लोग न तो बुर्का पहन रहे हैं और न ही इसे बढ़ावा दे रहे हैं. मंत्री ने बलिया की मस्जिदों में लाउडस्पीकर की ध्वनि को नियंत्रित करने और लाउडस्पीकर हटाने के लिए जिलाधिकारी को पत्र लिखा है.

अजान को लेकर अपने बयान पर शुक्ल ने कहा कि उन्होंने आम लोगों की शिकायत पर मस्जिद में लाउडस्पीकर के कारण हो रही परेशानी का जिक्र करते हुए जिलाधिकारी को पत्र लिखा है. मंत्री का तर्क था कि तड़के 4 बजे अजान शुरू हो जाती है. इसके बाद चंदे के संबंध में 4 से 5 घंटे सूचना दी जाती है.

इसके कारण उन्हें पूजा-पाठ, योग, व्यायाम और सरकारी कामकाज निपटाने में दिक्कत आती है. मंत्री ने कहा कि आम लोग डायल 112 पर कॉल कर मस्जिद में लाउडस्पीकर के कारण हो रही दिक्कतों की सूचना दे सकते हैं. जिलाधिकारी को जो पत्र लिखा गया है, उस पर कार्रवाई होगीय अगर ऐसी कार्रवाई नहीं होती है तो वह आगे कदम उठाएंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *