हेड कोच रवि शास्त्री ने मोह’म्मद सिराज के लिए कही बड़ी बात, फैंस ने मांगी माफी –

Sports

भारतीय क्रिकेट टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री (Ravi Shastri) ने नये तेज गेंदबाज मोह म्मद सिराज (Moha mmed Siraj) को ऑस्ट्रेलिया दौरे की खोज बताया. रवि शास्त्री ने शुक्रवार को कहा कि निजी क्षति और दर्शकों से नस्ली य दुर्व्य वहार का सामना करने के बाद भी उन्होंने टेस्ट श्रृंखला की ऐतिहासिक जीत में अहम भूमिका निभाई. सिराज के पिता का 20 नवंबर को फेफड़े की बीमारी से नि धन हो गया था. इससे एक सप्ताह पहले ही सिराज भारतीय टीम के साथ ऑस्ट्रेलिया पहुंचे थे. उन्हें घर लौटने का विकल्प दिया गया लेकिन वह टीम के साथ रुके रहे.

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चार मैचों की सीरीज के सिडनी में खेले गये तीसरे टेस्ट में उन्हें दर्शकों से न स्लीय टिप्पणी का सामना करना पड़ा था. इन सब बाद उन्होंने श्रृंखला में भारत की ओर से सबसे ज्यादा 13 विकेट लिये जिससे टीम पिछड़ने बाद 2-1 से जीत दर्ज करने में सफल रही. शास्त्री ने 26 साल के इस गेंदबाज की तारीफ करते हुए ट्वीट किया, ‘ गेंदबाजी आक्रमण के स्तर को ऊंचा करने वाले मोह म्मद सिराज इस दौरे की खोज है. उन्होंने व्यक्तिगत क्षति, नस्ली य टिप्पणियों का सामना करते हुए अच्छे प्रदर्शन के लिए इसे प्रेरणा की तरह लिया.’

रवि शास्त्री को फैंस ने किया सलाम ऑस्ट्रेलिया दौरे पर टीम इंडिया की जीत के कई हीरो हैं, उनमें से एक रवि शास्त्री भी हैं. रवि शास्त्री की सकरात्मक सोच टीम इंडिया के काफी काम आई. अकसर रवि शास्त्री को टीम इंडिया की हार पर ट्रोल किया जाता है लेकिन अब फैंस उनसे माफी मांग रहे हैं. रवि शास्त्री के पोस्ट पर ऐसे कई कमेंट्स देखने को मिले.

ऑस्ट्रेलिया में मोह म्मद सिराज का बेहतरीन प्रदर्शन सिराज की बात करें तो सीरीज के दूसरे टेस्ट मेलबर्न में डेब्यू करने वाले इस गेंदबाज ने अनुभवी तेज गेंदबाजों के चोटिल होने के बाद उनकी कमी को बखूबी पूरा किया. ब्रिसबेन में खेले गये चौथे टेस्ट में उन्होंने युवा भारतीय गेंदबाजों की अगुवाई करते हुए इस खेल के सबसे बड़े फॉर्मेट में पहली बार पांच विकेट (दूसरी पारी में) चटकाये. उन्होंने गाबा में खेले गये इस निर्णायक मुकाबले में 150 रन देकर सात विकेट लिये.

इस मैच को भारतीय टीम ने तीन विकेट से जीत कर श्रृंखला में ऐतिहासिक सफलता हासिल की. उन्होंने गुरुवार को भारत लौटने पर कहा था कि सिडनी टेस्ट में दर्शकों द्वारा नस्लीय टिप्पणियां किये जाने के बाद मैदानी अंपायरों ने उनकी टीम को तीसरा टेस्ट बीच में छोड़ने का विकल्प दिया था जिसे कप्तान अजिंक्य रहाणे ने ठुकरा दिया . वह स्वदेश लौटने पर अपने घर जाने से पहले मर हूम पिता की कब्र पर फूल चढ़ाने गए थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *