राजीव शर्मा ने कु,रान को मा,रवाड़ी में अनुवाद कर कही बड़ी बात, वसीम रिज़वी के मुंह पर तमा,चा

Education

राजीव शर्मा नाम के इस शख्स ने पवित्र कु’रआन शरी’फ का मारवाड़ी में अनुवाद किया और इसे अब मु’स्लिम समु’दाय तक भी पहुँचा रहे है ।इंडिया टुमारो से बात करते नए राजीव कहते है कि इस्ला’म शांति का मज़हब है और कोई अगर इस्ला’म के नाम पर कोई गल’त काम करता है, हिं’सा करता है तो यह क़ुरआन और हज़रत मोह’म्मद सल्ला’हु अलै’हि वसल्ल’म की शिक्षा’ओं के विपरीत है ।

उन्होंने कहा कि इस्ला’म हिं’सा का संदेश बिल्कुल नही देता है ।पैगम्बर मोहम्मद के विचारों और उनके जीवन-चरित्र से काफी प्रभावित हैं और उनकी जीवनी को वे मारवाड़ी में लिखना चाहते हैं। इस किताब का नाम ‘पैगम्बर रो मुहम्मद’ होगा और इसे आप मुफ्त में इंटरनेट से डाउनलोड भी कर सकते हैं.कई हिन्दू ग्रंथों का अनुवाद करने वाले और एक ऑनलाइन लाइब्रेरी चलाने वाले राजीव शर्मा इस सराहनीय काम को कैसे करने लगे, इसकी जानकारी हम आपको दे रहे हैं।

वेबसाइट द बेटर इंडिया में छपी खबर के मुताबिक, राजीव शर्मा उस समय नौवीं क्लास में थे जब उन्होंने पहली बार राजस्थान के अपने गांव कोलसिया में ‘गांव का गुरुकुल’ नाम से लाइब्रेरी खोली थी। उनकी पढ़ने की आदत थी इसलिए उन्होंने अलग-अलग व्यक्तित्व पर कई पुस्तकें पढ़ डाली। लेकिन जब उन्होंने पैगम्बर मोहम्मद के बारे में पढ़ा तो वे काफी प्रभावित हुए और उनके व्यक्तित्व पर शर्मा ने अपनी क्षेत्रीय भाषा मारवाड़ी पर एक पुस्तक लिख डाली।भारत जैसे देश में जहां आपकी सामाजिक पहचान और रुतबा आपके धर्म से तय होता है, वहां ऐसी कितनी घटनाएं सामने आती हैं? एक हिन्दू लड़का न सिर्फ मुस्लिम गुरु से प्रभावित हुआ बल्कि उसने एक पूरी किताब ही लिख डाली।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *