शपथ लेते ही राष्ट्रपति बाइडन ने मुसल’मानों पर लगाये इस प्रतिबंध को किया ख़त्म

360°

जो बाइडेन (Joe Biden) आज अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति बन जाएंगे। उम्मीद है कि आज अमेरिकी राष्ट्रपति पद का शपथ ग्रहण करने के बाद वे कई अहम फैसले लेंगे। जानकारों का मानना है कि जो बाइडेन अमेरिका की वापसी विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) में होने का घोषणा कर सकते हैं। साथ ही अमेरिका फिर से पेरिस जलवायु समझौते में शामिल हो सकता है।

इसके अलावा जो बाइडेन कई मु’स्लिम बहुल देशों पर ट्रंप प्रसाशन द्वारा लगाया गए बैन को खत्म कर सकते हैं। साथ ही मेक्सिको बोर्डर पर बनने वील दीवार के काम पर भी रोक लगा सकते हैं। अमेरिका में अवैध रूप से एंटर करने वालों को रोकने के लिए डोनाल्‍ड ट्रंप ने इस दीवार को बनाने का आदेश दिया था।

जो बाइडेन अप्रवासियों के मुद्दे पर भी व्यापक कदम उठा सकते हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, बाइडेन अपने कार्यकाल के पहले ही दिन आव्रजन विधेयक (Immigration Bill) को मंजूरी दे सकते हैं। उनके इस कदम से अमेरिका में बिना कानूनी मान्यता के रह रहे 1 करोड़ 10 लाख लोगों को वहां की नागरिकता मिलने का रास्ता साफ हो जाएगा।

इस 1.10 करोड़ लोगों में बड़ी संख्‍या भारतीयों की है। बाइडेन की यह नीति डोनाल्‍ड ट्रंप से एकदम अलग है जिन्होंने अप्रवासियों पर रोक लगाने के लिए सख्‍त कदम उठाए थे। इसके साथ ही जो बाइडेन केयस्टोन एक्सएल ऑयल पाइपलाइन को दी गई मंजूरी को खारिज कर सकते हैं।

17 आदेशों पर हस्‍ताक्षर करेंगे जो बाइडेन – जो बाइडेन के एक सहयोगी ने बताया कि बुधवार को नए राष्ट्रपति 17 आदेशों पर हस्‍ताक्षर करेंगे। वे निवर्तमान राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप के मुकाबले आव्रजन,  पर्यावरण, कोविड-19 के खिलाफ जंग और अर्थव्‍यवस्‍था से जुड़े मुद्दों पर अलग रास्ता अख्तियार करेंगे।

आपको बता दें कि अमेरिका के इतिहास में सबसे अधिक उम्र के राष्ट्रपति बनने जा रहे जो बाइडेन शपथ ग्रहण के तुरंत बाद राष्ट्रपति के तौर पर देश के नाम अपना पहला संबोधन देंगे। उनके इस ऐतिहासिक भाषण को भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक विनय रेड्डी तैयार कर रहे हैं।

शपथ से पहले ही चीन-पाकिस्‍तान को सख्‍त चेतावनी जो बाइडेन प्रशासन ने साफ कर दिया है कि लद्दाख में नजरें गड़ाए बैठे चीन के खिलाफ अमेरिका की सख्‍ती ट्रंप प्रशासन की तरह ही जारी रहेगी। वहीं, कश्‍ मीरी आतं’ कवादियों को पालने वाले पाकि स्‍तान को भी बाइडेन प्रशासन ने लश्‍ कर- ए-तैयबा और अन्‍य भारत विरोधी आतं कवादियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए आगाह किया है।

अमेरिका के भावी रक्षा मंत्री जनरल लॉयड ऑस्टिन ने कहा है कि चीन कंट्रोलिंग वर्ल्ड पावर बनना चाह रहा है जो उसके खतरनाक मंसूबे को दर्शाता है। चीन के डराने-धमकाने वाले व्यवहार का उल्लेख करते हुए अमेरिकी सांसदों से कहा कि अमेरिका चीन का मुकाबला डटकर करेगी। वहीं, अमेरिका के भावी विदेश मंत्री एंथोनी ब्लिंकेन ने चीन को अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा बताया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *