असदुद्दीन ओवेसी को Z सिक्युरिटी नही बुलेटप्रूफ कार और ग्लॉक हथियार चाहिए, अमित शाह को लिखेंगे चिट्टी

360° Politics

3 फरवरी को असदुद्दीन ओवैसी का मेरठ दौरा था जिसमे वहां से लौटते समय उन पर हम,ला हुआ। ये ह,मला उन पर टोल प्लाजा के पास हुआ। जिसके बाद आज सरकार द्वारा उनको ज़ेड प्ल्स सुरक्षा प्रदान की गयी थी लेकिन असदउद्दीन औवेसी ने खुद को मिली सुरक्षा को लेने से साफ इंकार कर दिया और

कहा कि ए ग्रेड के शहरी बनाईये और सुरक्षा गरीबों की कीजिये औवेसी ने ठुकराई ख़ुद को मिली सुरक्षा, बोले ग़रीबों की सुरक्षा करे सरकार असदउद्दीन औवेसी पर कल जानलेवा हमला हुआ था जिसके बाद आज सरकार द्वारा उनको ज़ेड प्ल्स सुरक्षा प्रदान की गयी थी

लेकिन असदउद्दीन औवेसी ने खुद को मिली सुरक्षा को लेने से साफ इंकार कर दिया और कहा कि ए ग्रेड के शहरी बनाईये और सुरक्षा गरीबों की कीजिये। AIMIM नेता और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने उनकी कार पर यूपी में फायरिंग के मामले में आज संसद में बयान दिया.

ओवैसी ने कहा, ‘इस नफरत को खत्‍म कीजिए, यह आपकी जिम्‍मेदारी है.’ उन्‍होंने कहा कि सवाल यह है कि इन नौजवानों को किसने भड़काया. हम नफरत का जवाब मोहब्‍बत से देंगे. यूपी की जनता, इन गोलियों का जवाब वोट से देगी.’ उन्‍होंने कहा, ‘मुझे जेड श्रेणी की सुरक्षा नहीं चाहिए.मैं वर्ष 1995 से राजनीति में हूं.

हमें ‘ए’ कैटगरी का शहरी बनाइए.मेरा मानना है कि गरीबों की जान बचानी जरूरी है. जब देश के प्रधानमंत्री से जुड़े मामले में सुरक्षा का उल्‍लंघन का मामला सामने आया था तो मैंने कहा था कि यह गलत हुआ.’ इस नफरत और नफरत की राजनीति को खत्‍म किए जाने की जरूरत है.ओवैसी ने कहा कि हम तो 6 से 7 फीट के फासले से अपनी मौत को देख रहे थे.

हम तो सिर्फ कलमा ही पढ़ सके ये और बात है कि अल्‍लाह ने तय किया था कि आज हमारी मौत नहीं होगी. उन्‍होंने कहा क‍ि मुझे डर तो केवल अल्‍लाह से लगता है. जब आप किसी को गोली चलाते देखते हैं तो आपको अचंभा होता है कि ये क्‍या हो रहा है.

ओवैसे ने कहा कि जब हमारे चारों ओर लोग हथियार लेकर चलते हैं तो हम घुटन महसूस करते हैं. उन्‍होंने कहा कि मैं ये जानता हूं कि हमारी जान की हिफाजत हमारी मौत करेगी और जब तक अल्‍लाह फैसला नहीं करेगा, हमारी मौत नहीं आएगी.

उन्‍होंने कहा कि मैं गृह मंत्रालय को एक पत्र लिखने जा रहा हूं कि वह मुझे एक बुलेट प्रूफ गाड़ी रखने की इजाजत दे, जिसे वो अपने खर्चे पर दिल्‍ली में रखेंगे. उन्‍होंने कहा कि वह ग्लॉक हथि,यार रखने की इजाजत भी सरकार से मांगेंगे.ये एक छोटा हथि,यार होती है जिसमे बहुत सारी सुविधाएं फंक्शन होते है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *