कभी मुंबई में चौकीदारी करते थे नवाजुद्दीन सिद्दीकी, फिर इंडस्ट्री में ऐसे मिला स्टारडम का ख़जाना

Lifestyles

बॉलीवुड एक्टर नवाजुद्दीन सिद्दीकी इन दिनों अपनी अपकमिंग फिल्मों के लिए तैयारी में जुटे हुए हैं। वहीं हाल ही में नवाजुद्दीन सिद्दीका का म्यूजिक वीडियो ‘बारिश की जाए’ भी लॉन्च किया गया है जिसे दर्शकों का खूब प्यार मिल रहा है। वहीं नवाजुद्दीन सिद्दीकी के अपने इस म्यूजिक वीडियो में किए डांस स्टेप की भी काफी चर्चा है। आज नवाजुद्दीन सिद्दीकी को किसी पहचान की जरूरत ही है। नवाजुद्दीन सिद्दिकी एक ऐसे स्टार हैं जिनकी सादगी और दमदार एक्टिंग से लोगों के दिलों में अपनी खास जगह बनाई है।

लेकिन आपको बता दें कि नवाजुद्दीन सिद्दीकी को यह सफलता इतनी आसानी से नहीं मिली है। हर कोई जानता है कि बॉलीवुड में सफलता हासिल करने के लिए कई कसौटियों से गुजरना पड़ता है। लेकिन कुछ जिद्दी लोगों ने बॉलीवुड के इस पैमाने को तोड़कर रास्ता साफ कर दिया। इन्हीं में से एक हैं एक्टर नवाजुद्दीन सिद्दीकी। फिल्मों में कोई भी किरदार क्यों ना हो नवाजुद्दीन सिद्दीकी उसमें ऐसी जान फूंक देते कि सामने वाला कह उठे कि इससे बेहतर इस रोल को कोई और नहीं निभा सकता। एक्टर की यही खासियत उन्हें बॉलीवुड में हीरो की भीड़ अलग छांट देती है। चलिए आपको नवाज की निजी जिंदगी से जुड़ी कुछ खास बातें बताते हैं।

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर के छोटे से कस्बे बुढ़ाना में पैदा हुए नवाजुद्दीन सिद्दीकी बचपन में कोई फिल्मी माहौल नहीं मिला। जहां 80 के दशक के आखिरी दौर में टीवी का घर में होना बड़ी शान की बात माना जाता था लेकिन उस दौर में कस्बे और छोटे शहरों में टीवी की झलक तक नहीं पहुंची थी। वहीं कुछ लोग ऐसे भी थे जिन्होंने अपनी जवानी में छुप-छुप के ब्लैक एंड व्हाइट टीवी देखा करते थे। नवाज भी अपना सारा काम छोड़ कर टीवी देखा करते और यहीं समय था जब नवाज ने एक्टिंग का सपना मन में पाल लिया।

साल 1996 में नवाज ने दिल्ली में दस्तक दी जहां उन्होंने नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा से एक्टिंग की पढ़ाई पूरी की। जिसके बाद नवाज अपनी किस्मत आजमाने मुंबई पहुंच गए। हालांकि नवाज को बिल्कुल उम्मीद नहीं थी कि वो एक दिन इतने ज्यादा मशहूर हो जाएंगे। एक्टिंग स्कूल के लिए नवाज ने दाखिला तो ले लिया था लेकिन उनके पास रहने का ठिकाना नहीं था। तो उन्होंने वहीं चौकीदार की नौकरी शुरू कर दी। भले ही नवाज को चौकीदार की नौकरी मिल गई लेकिन शारीरिक रूप से कमजोर होने के चलते वो ड्यूटी के दौरान वो अक्सर बैठे ही रहते थे। जिसके चलते उनको अपनी ये नौकरी गवानी पड़ गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *