वर्ल्ड कप में सबके सामने कप्‍तान को जड़ दिया थप्‍पड़,मोहम्मद शहजाद दुखी,किसी को नही थी उम्मीद

360°

बीते एक दशक में क्रिकेट बिरादरी के बीच जिस टीम ने सबसे तेजी से अपनी जगह बनाई है, उसमें अफगानिस्तान सबसे ऊपर है. सिर्फ 11-12 साल पहले ही इस टीम को नियमित तौर पर वनडे टीम का दर्जा मिला था और धीरे-धीरे इस टीम ने एक दशक से भी कम वक्त में टेस्ट दर्जा भी पा लिया. इसके पीछे टीम का निरंतर बेहतरीन प्रदर्शन वजह रही है.

साथ ही कुछ ऐसे खिलाड़ी भी, जिन्होंने टीम के बाकी खिलाड़ियों के मुकाबले अकेले दम पर मैच का रुख पलटने की काबिलियत दिखाई. ऐसे ही एक खिलाड़ी हैं मोहम्मद शहजाद , जिन्होंने अफगानिस्तान को शुरुआत सालों में ही एक बेहतरीन क्षमता से भरी टीम बनाने में मदद की.
अफगानिस्तान के विकेटकीपर-बल्लेबाज मोहम्मद शहजाद का जन्म आज ही के दिन यानी 31 जनवरी 1987 को हुआ था.

शहजाद का जन्म अफगानिस्तान के नांगरहार में हुआ था, लेकिन उस दौर में ये देश अपने बुरे दौर से गुजर रहा था और जल्द ही शहजाद के परिवार को पाकिस्तान के पेशावर में शरणार्थी कैंप में जाना पड़ा. यहीं पेशावर में शहजाद ने अपना लंबा वक्त गुजारा और क्रिकेट के गुर भी सीखे. यहां तक कि अफगानिस्तान के स्थापित क्रिकेटर बनने के बाद भी वह पेशावर में ही रहते रहे. आखिर 2018 में अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड (ACB) को उन्हें पेशावर छोड़ अपने देश आकर रहने की गुजारिश करनी पड़ी और वह वापस अफगानिस्तान लौटे.

मौजूदा दौरे में क्रिकेट खेलने का मतलब ये नहीं कि शहजाद भी आज के दौर के क्रिकेटरों की तरह हैं. उनका आकार देखकर कोई भी उन्हें एथलीट नहीं मानेगा. उस पर से 5 फुट 3 इंच का कद भी उनके क्रिकेटर होने पर किसी को भी संदेह में डाल देगा, लेकिन यही तो शहजाद को सबसे अलग बनाता रहा है. यही अलगपन उनके खेल में भी दिखता रहा है. कद जरूर छोटा है, लेकिन बल्ले से निकलने वाले शॉट उतने ही ऊंचे और धारदार हैं.

अफगानिस्तान को 2009 में वनडे क्रिकेट खेलने का दर्जा मिला और इसमें शहजाद की खास भूमिका थी. 2009में साउथ अफ्रीका में हुए वर्ल्ड कप क्वालिफायर में अफगानिस्तान को ODI स्टेटस के लिए नामीबिया को हराने की जरूरत थी. शहजाद ने 73 रनों की बेहतरीन पारी खेली और टीम को 21 रनों से जीत के साथ बड़ा दर्जा दिला दिया. अब अफगानिस्तान भी बाकी टीमों के साथ वनडे क्रिकेट खेल सकता था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *