मुसलमानो में निकाह को लेकर आया बड़ा बयान “शादी में अगर डीजे,आति,शबाजी हुई तो हम

Lifestyles

मध्यप्रदेश के छतरपुर से एक फरमान सामने आया है। यहां के सदर हाजी ने मुस्लिम संप्रदाय को शादी के वक्त डीजे, डांस, आतिशबाजी से दूर रहने का फरमान सुना दिया है कि मुस्लिम शादी में अगर डीजे बजा, डांस हुआ, आतिशबाजी चली तो कोई काजी निकाह नहीं पढ़ाएगा। ये फरमान मध्यप्रदेश के छतरपुर से सामने आया है। जहां अंजुमन इस्लामिया कमेटी सदर हाजी शहजाद अली ने मुस्लिम संप्रदाय के लोगों से निकाह में डीजे, डांस, आति,शबाजी से दूरी बनाने का फरमान सुना दिया। 

मुस्लिम समाज के सदर के अनुसार यह फैसला इसलिए लिया गया क्योंकि समाज (मुआसरे) में जो खराविया पैदा हो रही थी जो सरियद के खिलाफ काम हो रहे थे उनको रोकने के लिए यह कदम लिया गया| मुस्लिम समाज के अध्यक्ष शहजाद अली ने बाकायदा फैसला लेने के पहले काजियों की बैठक रानी तिलैया के पास स्थित अंजुमन इस्लामिया कमेटी के ऑफिस में बुलाई और सभी की सहमति लेते हुए लिखित में यह फैसला लिया जिसकी चिठ्ठी अब जिले  भर के मुस्लिम भाइयों को भेजी जा रही है ।

इस फैसले पर अमली जामा आगामी 1 मार्च 2021 से पहनाया जाएगा ।इतना ही नहीं बाहर से आने वाले मुस्लिम भाई जो भी छतरपुर में विवाह कर आएंगे वह अगर इसका उल्लंघन करते हैं तो उनके खिलाफ कानूनी कार्यवाही कराने की बात भी कही गई है । तो कुल मिलाकर सदर हाजी शहजाद अली के इस फरमान का सभी मुस्लिम भाइयों को कड़ाई से पालन करना होगा । अब इन सदर हाजी के इस फरमान के पीछे का तर्क भी जान लीजिए।

हाजी के मुताबिक  शरीयत के खिलाफ हो रहे काम को रोकने के लिए इस तरह का कठोर फैसला लिया गया। जिसकी चिट्ठी मुस्लिम समाज के लोगों को भेज दी गई है। यही नहीं बाहर से छतरपुर निकाह रचाने वाले मुस्लिम समुदाय के लोगों को भी इसका सख्ती से पालन करना होगा।सदर  हाजी के इस फरमान से काजी भी इत्तेफाक रखते दिखे। इनका साफ कहना था कि पैसा तो बचेगा साथ ही संप्रदाय में सौहाद्र का वातावरण भी तैयार होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *