VIDEO- राम मंदिर के लिए दान करने वाली इक़रा अनवर का सच आया सामने

India

इक़रा- ईश्वर की तरफ से पैगम्बर मुहम्मद की तरफ से आने वाले संदेश “कुरआन” का पहला शब्द “इक़रा” ही है। इसका अर्थ होता है “अध्ययन” ये शब्द इस्लाम के अनुसार बहुत ज्यादा यूनीक माना जाता है। क्योंकि ये ईश्वर का पैगम्बर के लिए प्रथम सम्बोधन है” खैर, इक़रा अनवर नाम की लड़की आजकल चर्चा में है, कुछ लोग उसके इस काम की सरहाना कर रहे हैं और कुछ लोग कह रहे हैं “जबरन मस्जिद ढहा कर उसपर कुछ और बना देना ज़ुल्म है, ओर जो लोग ढहाने वालो का साथ दे रहे हैं वो भी ज़ालिम हैं”

हालांकि हम इनके दान पुण्य के बारे बहुत पढ़े और इनसे एकदम आकर्षित हो गए, ओर हम जिससे आकर्षित होते हैं उसके बारे में जानने की कोशिश करते हैं, ओर जानने के लिए हम फेसबुक खंगालते हैं, इनको भी छान मारा, इनकी प्रोफ़ाइल मिली, ओर पता चला कि ये किस सोच से पीड़ित हैं, वहां उन्होंने एक विधायक के मुंह पर कालिख पुता हुआ फोटो डालकर काफी मज़े लिए हुए हैं।

राम मं,दिर निर्माण के लिए हर वर्ग के लोग बढ़चढ़कर सहयोग कर रहे हैं। पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में एक मु,स्लिम युवती ने भी राम मं,दिर के निर्माण में दान कर धा,र्मिक सम,रसता का संदेश दिया है, जिसकी लोग मिसाल दे रहे हैं। मु,स्लिम युवती और लॉ की छात्रा इकरा अनवर खान ने भी 11 हजार रुपये का चेक दान में दिया है।

 

लेकिन इससे पहले वो भूमि पू,जन के दौरान भी एक और मिसाल पेश कर चुकी हैं।मंगलवार को अखिल भारतीय सं,त समिति के राष्ट्रीय महामंत्री स्वामी जितेंद्रानंद सरस्वती को उनके आवास पर इकरा खान ने चेक सौंपा। इकरा ने कहा कि भग,वान राम उनके पू,र्वज हैं। अयोध्या में मं,दिर बनने के लिए मैंने छोटा सा सहयोग दिया है।

 

मैंने सि,यासत करने वालों को जवाब दिया है कि ध,र्म अलग-अलग नहीं होते हैं। ध,र्म एक है और वह है इंसान का ध,र्म। मैं एक इंसान के रूप में राम मं,दिर निर्माण में भागी बन रही हूं, जिसकी मुझे खुशी है। मं,दिर बनने के बाद मैं श्री राम के दर्शन के लिए भी जाऊंगी।

अखिल भारतीय सं,त समिति के महामंत्री स्वामी जितेंद्रानंद ने कहा कि इकरा अनवर ऐसी पहली मु,स्लिम युवती हैं, जिन्होंने राम मं,दिर निर्माण के धन संग्रह में 11 हजार रुपये की राशि चेक के माध्यम से दी है। हालांकि इस वीडियो को आप गौर से देखिए।

 

वीडियो के अलावा भी इक़रा अनवर खुद कह रही हैं कि वो सनातन में विश्वास रखती हैं, वो श्रीरामचंद्र को अपना भगवान मानती हैं इस लिए इस्लाम के “एकेश्वर” सिद्धांत के अनुसार ये इस्लाम की लिस्ट से स्वतः ही बाहर हो जाती हैं। इसलिए इन्हें मुस्लिम कहना सही नहीं रहेगा। क्या इक़रा अनवर जी ये कह सकती हैं कि वो हिन्दू नहीं हैं? मेरे ख्याल से कोई सच्चा सनातन प्रेमी खुदको नहीं कह पायेगा कि वो हिन्दू नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *