भाजपा कार्यकर्ता को गिरफ़्तार करने वाले हुमायूं कबीर ने दिया इस्तीफा,पीछे है बड़ी वजह

360°

बंगाल में राजनीतिक प्रदर्शन के दौरान गो,ली मारो का नारा लगाने वाले भाजपा कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार करने वाले पु,लिस अफसर हुमायूं कबीर ने पद से इस्तीफा दे दिया है. कबीर का कहना है कि वह निजी कारणों से इस्तीफा दे हैं. हुमायूं कोलकाता के पास चंदननगर के पु,लिस कमिश्नर हैं.हुमायूं कबीर को दिसंबर में इंस्पेक्टर जनरल की रैंक का प्रमोशन मिला था.

बंगाल में बीजेपी और तृणमूल कांग्रेस में मचे घमासान के बीच यह मामला सामने आया है.दरअसल, 21 जनवरी को बंगाल में बीजेपी की रैली के दौरान जब कुछ पार्टी कार्यकर्ताओं ने “गो,ली मारो” का नारा लगाया था तब उन्हें गिरफ्तार किया गया था. उन्हें हिंसा भड़काने के प्रयास के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. पु,लिस ने स्थानीय बीजेपी नेता सुरेश शॉ और दो अन्य को इस नारेबाजी का वीडियो सामने आने के कुछ घंटों बाद ही गिरफ्तार कर लिया था.

इस रैली की अगुवाई बीजेपी नेता सुवेंदु अधिकारी और हुगली से बीजेपी सांसद लॉकेट चटर्जी कर रहे थे.तृणमूल कांग्रेस में ममता के बेहद करीबी समझे जाने वाले सुवेंदु अधिकारी ने पिछले माह ही तृणमूल कांग्रेस छोड़ी थी. इसके बाद टीएमसी से पलायन करने की होड़ लग गई. टीएमसी सांसद सौगत रॉय ने कहा है कि इस नारेबाजी को लेकर हुई गिरफ्तारी पूरी तरह पुलि,स का मामला है. इसका उनका पार्टी से कोई लेना-देना नहीं है.

इस गिरफ्तारी पर सवाल उठे थे, क्योंकि तृणमूल कांग्रेस के कुछ कार्यकर्ताओं ने कोलकाता में एक दिन पहले ही इसी तरह की नारेबाजी की थी और उन पर कोई कार्रवाई नहीं की गई थी. तृणमूल सरकार ने यह मुद्दा चुनाव आयोग के समक्ष भी उठाया था. वहीं बीजेपी ने इस मामले में पक्षपात की शिकायत की थी.बंगाल बीजेपी प्रमुख दिलीप घोष ने कहा था कि सत्तारूढ़ पार्टी की ज्यादा जिम्मेदारी बनती है. जब उनकी ओर से भड़काऊ बयानबाजी होगी  तो उस पर प्रतिक्रिया होती है. 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *