19 साल बाद पुलिस के हत्थे चढ़ा गो’धरा कांड का मुख्य आरोपी, उगले गहरे राज़

India

गोरा काड के 19 साल बाद इस मामले के मुख्य आरोपी रफीक हुसैन भटुक को आखिरकार पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस के हत्थे चढ़े रफीक पर गोरा काड के आरोपियों के मुख्य समूह का हिस्सा होने, साजिश रचने और भी को उकसाने जैसे तमाम आरोप हैं. वह 2002 से फरार चल रहा था. अब देखते है कि न्यालालय उसको क्या सज़ा देती है. क्या इंसाफ होगा ? ये बहुत ही दुदाई था.

गोरा काड के 19 साल बाद इस मामले के आरोपी रफीक हुसैन भटुक को गोधरा शहर से पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया है. इस बारे मे ज्यादा जानकारी देते हुए एक अधिकारी ने बताया कि 51 वर्षीय रफीक हुसैन भटुक 2002 से भी फरार चल रहा था. बता दें कि 27 फरवरी 2002 को गुजरात के पंचमहल जेले के गोधरा स्टेशन पर साब रमती एक्सप्रेस ट्रेन के एक कोच में भीड़ ने लगा दी गई थी. इस घटना में 59 कारसे वकों की मौ हो गई थी.

पंचमहल की पुलिस अधीक्षक लीना पाटिल ने समाचार एजेंसी पीटीआई-भाषा को बताया कि 51 साल का रफीक हुसैन भटुक गोरा काड के आरो पियों के उस मुख्य समूह का हिस्सा था जो इस पूरी साजिश में शामिल थे. उन्होंने बताया कि भटुक पिछले 19 सालों से फरार था. एसपी ने आगे बताया कि गुप्त सूचना के आधार पर, गोरा पुलिस की एक टीम ने रविवार रात रेलवे स्टेशन के पास स्थित सिग्नल फालिया इलाके में एक घर पर छापा मारा था जहां से भटुक को गिरफ्तार किया गया था.

पुलिस अधीक्षक लीना पाटिल ने बताया कि रफीक हुसैन भटुक गोरा काड के आरोपियों के उस मुख्य समूह का हिस्सा था जिन्होंने गोधरा स्टेशन पर साबरमती एक्सप्रेस ट्रेन कोच की पूरी साजिश रची थी. उन्होंने कहा कि भटुक पर साजिश रचने, भीड़ को उकसाने और ट्रेन के कोच के लिए का बंदोबस्त करने जैसे तमाम आरोप हैं. जब इस केस की जांच में उसका नाम सामने आया तो वह दिल्ली भाग गया था. एसपी ने बताया कि भागने के बाद, भाटुक ने अपना अधिकांश समय दिल्ली में बिताया, यहां वह रेलवे स्टेशनों पर और निर्माण स्थलों पर एक मजदूर के रूप में काम करता था. उसने ठेले पर भी सामान बेचा.

उन्होंने बताया कि हाल ही में पता चला था कि उसने अपना घर बदल लिया था और वह अपने परिवार से मिलने भी गया था.  कई बार उसे पकड़ने की कोशिश की गई लेकिन वह हर बार भाग निकलता था. अब हमारी टीमों ने उसे पकड़ने में कामयाबी हासिल की है. पाटिल ने कहा कि हम उसे आगे की जांच के लिए गोरा रेलवे पुलिस को सौंप देंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *