Home India क्या सच में 26 मई से भारत में फेसबुक, ट्वीटर बंद हो...

क्या सच में 26 मई से भारत में फेसबुक, ट्वीटर बंद हो जाएगा ? जाने पूरी वजह

अगर आपसे कोई कहे की भारत में आपसे सबसे चहेते सोशल मीडिया प्लेटफार्म बंद हो रहे है तो आपको कैसा लगेगा ? बहुत बुरा लगेगा। शायद आपके लिए बहुत बुरा लगना शब्द भी छोटा हो सकता हैं लेकिन आपको बता दे की आज २५ मई है और आज ही के दिन तीन महीनों का समय भी समाप्त हो रहा हैं। जिसके लिए इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने इन कंपनीयों को नए नियमों का पालन करने का आदेश दिया था। और कहा था की अगर ऐसे में फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम जैसी कंपनी इन नियमों का पालन नहीं करती है तो उन्हें भारत से अपना कारोबार बंद करना होगा।

आपकी जानकारी के लिए बता दे की भारत सरकार के इलेक्ट्रॉनिक्स एवं आईटी मंत्रालय की तरफ से इन कंपनीयों को २५ फरवरी २०२१ को ही ३ महीने का समय दे दिया था। और इन्हें डिजिटल कंटेंट को रेग्युलेट करने के दिशा निर्देश दिए गए थे। जिसके लिए कंप्लायंस अधिकारी, नोडल अधिकारी आदि को नियुक्त भी करने को कहा गया था। इस पर केंद्र सरकार ने कहा था की जिसे भी इसके लिए नियुक्त किया जाए उसका कार्यक्षेत्र भारत में ही होना चाहिए। इसके साथ ही सोशल मीडिया प्लेटफार्म को आपत्ति,जनक कंटेंट की निगरानी के साथ ही साथ कंप्लायंस रिपोर्ट और आपत्तिज,नक सामग्री को भी हटाना होगा।

जिस पर सोशल मीडिया प्लेटफार्म की तरफ से यह कहा गया था की अगर नए नियमों के तहत कोई भी शिकायत मिलती है तो उसे २४ घंटे के भीतर ही स्वीकार करना होगा। इसके साथ ही १५ दिनों के अंदर ही अंदर कार्यवाही भी करनी होगी। और अगर कोई कार्यवाही नहीं भी होती है तो उसका भी कारण बताना होगा। इन सभी नियमों को लेकर कुछ प्लेटफार्म से यह भी कहा था की उन्हें ६ महीने का समय चाहिए। और कुछ ऐसे भी प्लेटफार्म थे जिनका यह कहना था की उन्हें उनके हेडक्वार्टर से दिशा निर्देश नहीं मिले है जो की अमेरिका में स्थित हैं।

आपको जानकर हैरानी होगी की अभी तक सिर्फ कू ही ऐसा एक प्लेटफार्म है जो नए नियमों का पालन कर रहा हैं। कू ने एक बयान में कहा है की, “कू की प्राइवेसी पॉलिसी, टर्म्स ऑफ यूज और कम्यूनिटी गाइडलाइन्स पर लागू नियमों की आवश्यकताओं को दर्शाते हैं। इसके अलावा, कू ने भारतीय निवासी मुख्य अनुपालन अधिकारी, नोडल अधिकारी और ग्रीवियंस ऑफिसर के सपोर्ट के साथ एक डिलिजेंस एंड ग्रीवियंस रेड्रेसल मैकेनिज्म को लागू किया है।”अब ऐसे में फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम जैसे अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म द्वारा समय सीमा समाप्त होने की स्थिति में, सरकार उनके खिलाफ आ,पराधिक कार्रवाई कर सकती है। अब देखा ये जाएगा की सरकार इनके खिलाफ क्या कार्यवाही करती हैं।

आप सोच रहे होंगे की ऐसा क्या है नए डिजिटल एथिक्स कोड में जो इतने बड़े सोशल मीडिया प्लेटफार्म उसे एक्सेप्ट करने में इतना समय ले रहे है। तो आपकी जानकारी के लिए बता दे की नए डिजिटल एथिक्स कोड में सरकार का लक्ष्य एक प्रोग्रेसिव इंस्टीट्यूशनल मैकेनिज्म बनाना है। केंद्रीय आईटी और संचार मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा था कि स्ट्रीमिंग सेवाओं के दुरुपयोग को रोकने और गलत सूचनाओं के सोर्स का खुलासा करने और 24 घंटे के अंदर उसे हटाने के लिए यह नया डिजिटल एथिक्स कोड तैयार किया गया है।

RELATED ARTICLES

शहाबुद्दीन के बेटे ओसामा से मिलने पहुँचे भाजपा नेता, सिवान की सियासत में आया तूफान

सीवान. राजद नेता और पूर्व सांसद मुहम्मद शहाबुद्दीन की मौ’त के बाद से ही बिहार की राजनीति ग’रमाई हुई है. सीवान क्षेत्र में शहाबुद्दीन...

दो मुस’लमानों को बीजेपी ने दी बड़ी जिम्मेदारी, एक मुफ़्ती भी शामिल, कभी बताया था आ-तंकी

बीजेपी नेता साबिर अली को लेकर बड़ी खबर सामने आ रही है। साबिर अली को बीजेपी ने बड़ी जिम्मेवारी दे दी है। ये वही...

माथे पर प,ट्टी बांधे करन मेहरा की पत्नी निशा रावल आईं सामने, रो रोकर बताया अपने रिश्ते का सच

टीवी जगत की मशहूर जोड़ी निशा रावल ) और करण मेहरा की लड़ाई अब मीडिया के सामने आ गई है. निशा रावल ...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

वैज्ञनिकों के अनुसार ये है दुनिया की सबसे सुंदर महिला, देखें कैली ब्रुक की विशेष तस्वीरें

एक वैज्ञानिक सर्वेक्षण में यह निष्कर्ष निकाला गया है कि केली ब्रुक का चेहरा और शरीर दुनिया में सबसे सुंदर है. वह ना ही...

गार्ड चाहिए, सैलरी 30000 , रहना खाना। फोटो दबाकर नम्बर लें

Bisleri कंपनी में भर्ती मिल रहा है बढ़िए मौका सैलरी 35000कोई भी अप्लाई कर सकता है अप्लाई करने के लिए सबसे नीचे जाइये पति भगवान्...

सवाल यदि कोई 18 साल की लड़की ढीले-ढाले कपड़े पहन आपके आगे झुक के प्रणाम करे तो सबसे पहले आपको क्या दिखेगा?

आपको बताते चलें कि देश के अधिकांश युवा वर्ग आज आईएएस आईपीएस की तैयारियों में जुटा हुआ है लेकिन आईएएस आईपीएस अधिकारी बनना इतना...

ज़ाहिद कुरैशी अमेरिकी जज बनने वाले पहले मुस्लिम

अमेरिकी सीनेट (उच्च सदन) ने पाकिस्तानी मूल के अमेरिकी नागरिक जाहिद कुरैशी के न्यूजर्सी में डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में नामांकन को मंजूरी दे दी है।...

Recent Comments