मुस्लिम लड़की ऐमन जमाल ने रचा इतिहास,योगी जी ने कही बड़ी बात,नही थी उम्मीद

Education

आईपीएस (IPS) बनना हर किसी का सपना होता है। लेकिन हर किसी का ये सपना हक़ीक़त में तब्दील नहीं होता। लेकिन बहुत से युवा ऐसे भी होते हैं जो लगातार मेहनत करते रहते हैं और अतत: उनका ये सपना हक़ीक़त के रूप में उभर कर सामने आता है। आज हम आपको कामयाबी की जो कहानी बताने जा रहे हैं। वह भी कुछ ऐसी ही है।ये कहानी है ऐमन जमाल की।

जो भले ही परिवार की तरफ़ से संपन्न है पर आप जानते ही होंगे कि मुस्लिम परिवारों में आज भी महिलाओं को सरकारी नौकरी या अधिकारी बनने की सभी परिवारों में इजाज़त नहीं होती। ज्यादातर मुस्लिम महिलाएँ शादी के बाद घर में रहकर परिवार की देखभाल और बच्चों का पालन-पोषण ही करती हैं। ऐमन जमाल को जब यूपी के सीएम ने देखा कि कैसे आज वह बने बनाए रास्तों को तोड़कर आगे निकल रही हैं, तो वह भी उनकी तारीफ किए बिना ख़ुद को नहीं रोक पाए। आइए जानते हैं क्या है ऐमन जमाल की कहानी।

आईपीएस ऐमन जमाल का जन्म गोरखपुर में हुआ था। इनके पिता का नाम हसन जमाल है, जो कि पेशे से बिजनेसमैन हैं। ऐमन जमाल ने दूसरे बच्चों की तरह ही पास के स्कूल से बारहवीं तक काॅमन इंटर गर्ल्स कॉलेज से पढ़ाई पूरी की है। इनकी माँ अफरोज बानो प्राइमरी स्कूल में अध्यापिका हैं। ऐमन जमाल बताती हैं कि उन्होंने सेंट एंड्रयूज कॉलेज से जंतु विज्ञान में ग्रेजुएशन तक की पढ़ाई पूरी की है। इसके बाद साल 2016 में उन्होंने अन्नामलाई विश्वविद्यालय से डिस्टेंस से मानव संसाधन में डिप्लोमा किया हुआ है।

ऐमन कहती हैं कि आज के दौर में इंटरनेट से पढ़ाई बेहतर विकल्प बनकर उभरा है। इंटरनेट के जरिए अच्छे अध्यापक से लेकर अच्छा कंटेंट तक मिल जाता है। बस ज़रूरत है सही से तलाशने की। इंटरनेट के जरिए हम बेहतर गुणवत्ता की शिक्षा के साथ कम समय में कामयाबी हासिल कर सकते हैं। इंटरनेट के जरिए पढ़ाई का ख़र्च भी बेहद कम आता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *