आगरा में रातों-रात करोड़पति बन गया बाइक मैकेनिक, खाते में निकले 1.20 करोड़, जानें क्या है मामला

360° Economic India Lifestyles News india Story World news

बरहन के खांडा क्षेत्र में भारतीय स्‍टेट बैंक की शाखा का मामला। करीब 1.20 करोड़ रुपये का ट्रांजेक्‍शन बाइक मैकेनिक के खाते में हुआ है। इसमें से 60 लाख रुपये की निकासी भी हो चुकी है। बैंक स्‍टाफ ने मैकेनिक की पासबुक और अन्‍य दस्‍तावेज रखे अपने पास।

रातों-रात मोटरसाइकिल की रिपेयरिंग करने वाला मिस्त्री करोड़पति बन गया है। जब उसको जानकारी हुई तो उसके पैरों तले जमीन खिसक गई कि उसके खाते से लाखों रुपए का लेन-देन भी हो चुका है। बुधवार को मामला खुला तो बाइक मैकेनिक को रातभर नींद नहीं आई। बैंक स्‍टाफ पूरे मामले की पड़ताल में लगा है। प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि यूपीआइ के जरिए इस खाते में धनराशि आती थी। खाते को ब्‍लॉक जब किया, उससे पहले ही रकम ही निकासी हो गई।

मामला थाना बरहन क्षेत्र के गांव गढ़ी राम बक्श का है। गढ़ी राम बक्श निवासी कपिल उम्र 20 वर्ष का भारतीय स्टेट बैंक खांडा शाखा में बचत खाता है। कपिल बुधवार को अपने खाते से 5000 पांच हजार रुपये निकालने के लिए गया था।

तभी बैंक में पैसे निकालते वक्त बैंककर्मियों ने देखा कि कपिल के खाते में पिछले 20 दिनों में एक करोड़ बीस लाख रुपए का लेनदेन हुआ है। यह जानकारी जब मैनेजर द्वारा कपिल से की गई तो उसने अनभिज्ञता जताई। शाखा प्रबंधक ने कपिल की पासबुक, आधार कार्ड और पैन कार्ड लेकर खाते को ब्लॉक कर दिया है।

वहीं कपिल ने बताया कि बैंककर्मियों ने उसको बताया था कि 16 सितंबर को उसके खाते से 60 लाख रुपए निकाले गए हैं। अभी खाते में से 60 लाख रुपए और जमा हैं। इतनी बड़ी धनराशि खाते में आना कपिल की समझ से परे है। उधर चूंकि ग्रामीण क्षेत्र की बैंक शाखा है, इसलिए उसमें भी करोड़ों का लेनदेन नहीं होता। बैंक स्‍टाफ पूरे मामले की पड़ताल करने में जुटा है।

शाखा प्रबंधक राजीव कुमार वर्मा का कहना है कि ऑफलाइन ट्रांजेक्‍शन मैनेजमेंट सिस्‍टम (ओटीएमएस) में कपिल का नाम आया। एसबीआइ के इस सिस्‍टम में रिपोर्ट हुआ कि ये खाता नया खुला है और इसमें लगातार कई ट्रांजेक्‍शन हो रहे हैं। यूनो एकाउंट है। यूपीआइ के जरिए इस खाते में रकम आ रही थी। कपिल के खाते में यूपीआइ के जरिए एक साथ बड़ी रकम आती थी लेकिन निकासी कम की होती थी।

जैसे ही उन्‍होंने खाते को ब्‍लॉक करना चाहा, उससे पहले ही शेष 60 लाख रुपये भी निकाले जा चुके थे। अब खाते में मात्र 500 रुपये शेष रह गए हैं। इसके पीछे साइबर शातिरों का हाथ होने की आशंका जताई जा रही है। आगरा साइबर सेल भी मामले की जांच में जुट गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *