इस क्रिकेटर ने 26 गेंदों में बना डाले 120 रन, किसी भारतीय ने उम्मीद नही की थी –

Sports

पृथ्वी शॉ के नाबाद दोहरे शतक और सूर्यकुमार यादव की तूफानी पारी की बदौलत मुंबई ने विजय हजारे ट्रॉफी में चार विकेट खोकर 457 रन बनाए. यह टूर्नामेंट का सबसे बड़ा स्कोर भी है. इसके अलावा 50 ओवर के इतिहास में यह चौथा सबसे बड़ा स्कोर है. पृथ्वी शॉ ने इस मैच में नाबाद 227 रनों की पारी खेली जो विजय हजारे ट्रॉफी में सर्वोच्च व्यक्तिगत स्कोर भी है. उनसे पहले यह रिकॉर्ड संजू सैमसन (नाबाद 212) के नाम था.

इंग्लैंड के खिलाफ पांच टी20 मैचों की सीरीज में चुने गए सूर्यकुमार यादव ने भी पुडुचेरी के खिलाफ ताबड़तोड़ पारी खेली. यादव ने सिर्फ 50 गेंदों में शतक जड़ दिया. उन्होंने 58 गेंदों पर 229 की स्ट्राइक रेट से 133 रनों की पारी खेली जिसमें 22 चौके और चार छक्के लगाए. यानि उन्होंने सिर्फ 26 गेंदों में 120 रन जड़ दिया. सूर्यकुमार यादव और पृथ्वी शॉ के बीच तीसरे विकेट के लिए 201 रनों की साझेदारी हुई. लिस्ट ए मैचों यह दूसरा सबसे तेज शतक है. इससे पहले साल 2010 में युसूफ पठान ने महाराष्ट्र के खिलाफ 40 गेंदों पर शतक जड़ा था.

जयपुर में खेले जा रहे वनडे टूर्नामेंट में टीम ने पुडुचेरी के खिलाफ खेलते हुए 4 विकेट पर 457 रन बनाए. यह टूर्नामेंट का सबसे बड़ा स्कोर है. पहली बार किसी टीम ने 450 से अधिक रन बनाए. कुछ दिनों पहले ही झारखंड ने मध्य प्रदेश के खिलाफ 9 विकेट पर 422 रन बनाए थे. अगर 50 ओवर की बात करें तो यह मुंबई ज्यादा स्कोर सिर्फ सरे (496/4), इंग्लैंड (481/6) और इंडिया ए (458/4) ने बनाए हैं.

पृथ्वी शॉ ने भारत की तरफ से बनाया तीसरा सर्वोच्च स्कोर
पृथ्वी शॉ ने 152 गेंदों में 27 चौके और पांच छक्कों की मदद से नाबाद 227 रनों की पारी खेली. यह 50 ओवर क्रिकेट में 8वां सर्वोच्च स्कोर है. वैसे अगर भारत की बात की जाए तो वह तीसरे नंबर पर हैं. उनसे ज्यादा रन रोहित शर्मा (264) और शिखर धवन (248) ने बनाए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *