विदेशी तब्लीगी जमात को लेनी होगी सरकार से इजाजत,ओसीआई के बनाये बड़े नियम,किसी को नही यही उम्मीद

360°

तबलीगी जमात के किसी भी कार्यक्रम या मीडिया एक्टिविटी के लिए जो भी ओसीआई कार्डधारक भारत आएंगे उन्हें अब केंद्र सरकार से इसके लिए इजाजत लेनी होगी।तबलीगी जमात के किसी भी कार्यक्रम या मीडिया एक्टिविटी के लिए जो भी ओसीआई कार्डधारक भारत आएंगे उन्हें अब केंद्र सरकार से इसके लिए इजाजत लेनी होगी। ओवरसीज सिटीजंस ऑफ इंडिया (ओसीआई) कार्ड धारक यदि देश में किसी धर्मोपदेश (मिशनरी) या ‘तबलीगी’ या मीडिया गतिविधियों में शामिल होना चाहते हैं, तो उन्हें अब केंद्र सरकार से विशेष अनुमति लेनी पड़ेगी।

गृह मंत्रालय की ओर से जारी अधिसूचना में कहा गया है कि ओसीआई कार्ड धारक भारत में किसी भी उद्देश्य के लिए यात्रा करने को लेकर लाइफटाइम कई बार प्रवेश की अनुमति देने वाले वीजा हासिल करने के हकदार होंगे। हालांकि रिसर्च या किसी मिशनरी या तबलीगी या पर्वतारोहण या मीडिया से जुड़ी गतिविधियों में शामिल होने के लिए उन्हें भारतीय दूतावास से विशेष अनुमति हासिल करनी होगी।


ओसीआई कार्डधारकों को भारत में किसी विदेशी दूतावास, विदेशी सरकार के संगठनों में इंटर्नशिप करने या भारत में किसी विदेशी दूतावास में नौकरी करने और ऐसे स्थान का दौरा करने के लिए विशेष अनुमति लेनी होगी। जो संरक्षित या प्रतिबंधित क्षेत्र में आता है। कोरोना वायरस जब फैल रहा था उस वक्त मार्च 2020 में जब देश भर में लॉकडाउन लागू किया गया था, उस वक्त तबलीगी जमात के 2500 से अधिक सदस्य दिल्ली में संगठन के मुख्यालय में ठहरे हुए पाए गये थे, जबकि ज्यादा संख्या में लोगों के इकट्ठा नहीं होने को लेकर दिशानिर्देश एवं आदेश जारी किए गए थे।

करीब 233 विदेशी तबलीगी जमात के लोगों को वीजा नियमों का उल्लंघन करने को लेकर गिरफ्तार किया गया था और उनमें से कई को ब्लैक लिस्ट कर दिया गया था। जिससे भारत में उनके भविष्य के दौरे पर प्रतिबंध लग गया। गृह मंत्रालय ने कहा कि ओसीआई कार्डधारकों को भारत में कितने समय के लिए भी ठहरने को लेकर अब विदेशी नागरिक क्षेत्रीय पंजीकरण अधिकारी (एफआरआरओ) या विदेशी नागरिक पंजीकरण अधिकारी (एफआरओ) के समक्ष रजिस्ट्रेशन कराने से छूट दे दी गई है। लेकिन उनके स्थायी आवासीय पता एवं उनके पेशा को लेकर बदलाव होने पर उन्हें एफआरआरओ या एफआरओ को सूचित करना होगा।

ओसीआई कार्ड धारक अब भारत में घरेलू हवाई उड़ानों में, राष्ट्रीय उद्यानों, वन्यजीव अभयारण्यों, राष्ट्रीय स्मारकों, ऐतिहासिक स्थलों और म्यूजियम में प्रवेश शुल्क भारतीय नागरिकों के समकक्ष ही भुगतान करेंगे। ओसीआई कार्ड धारक जिसके पास विदेश का पासपोर्ट होता है और वह भारत का नागरिक नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *