Home 360° कोरोना में सेक्स में दिलचस्पी कम क्यों हुई

कोरोना में सेक्स में दिलचस्पी कम क्यों हुई

घर के बाहर अपने अपने कामों में व्यस्त रहने वाले कई पार्टनर्स के लिए लॉकडाउन राहत की तरह आया.

घर पर रहने के कारण उन्हें इतमीनान से साथ बैठने का और एक दूसरे से साथ वक़्त गुज़ारने का मौक़ा मिला.

जेमिया के मुताबिक, “शुरुआत में महामारी ने लोगों को एक दूसरे से जुड़ने का मौका दिया, उसी तरीक़े से जैसे वो पहले छुट्टियों में मिला करते थे.”

लेकिन जैसे-जैसे महामारी बढ़ती गई, इसका बुरा असर भी दिखने लगा, ख़ासतौर पर शारीरिक संबंधों में. उनके मुताबिक़, “ज्यादातर जोड़ों में सेक्स की इच्छा कम हो गई.

शोधकर्ताओं ने तुर्की, इटली, भारत और अमेरिका में 2020 में पाया कि अपने पार्टनर के साथ या किसी के साथ एक बार होने वाले सेक्स में कमी आई और इसका सीधा संबंध लॉकडाउन से है.

अमेरिका की किन्से इंस्टिट्यूट जहाँ ये स्टडी हुई, वहाँ के रिसर्च फ़ेलो जस्टिन लेहमिलर के मुताबिक़, “मुझे लगता है कि इसकी एक बड़ी वजह थी कि कई लोग परेशान थे.”

कई लोगों के अंदर महामारी और लॉकडाउन ने डर और अनिश्चितता का माहौल पैदा कर दिया. कई लोगों में अपने स्वास्थ्य से जुड़ी एंग्ज़ाइटी देखने को मिली, पैसे को लेकर अनिश्चितता थी और ज़िंदगी में कई और बदलाव हो रहे थे.

इन चीज़ों के कारण होने वाली परेशानियों के साथ-साथ अपने पार्टनर के साथ ज़्यादा समय बिताना, वो भी बंद कमरे में, इससे रिश्तों पर बुरा असर पड़ा और सेक्स में कमी आई.

एक तरीक़े से कोविड महामारी सेक्स के लिए बहुत ख़राब साबित हुई है. लेकिन क्या हम पुराने रिश्तों की तरफ़ वापस जा पाएंगे या फिर ये असर लंबे समय के लिए पड़ा है?

जैसा कि जेमिया ने कहा कि शुरू में कई जोड़े लॉकडाउन के दौरान सेक्स लाइफ का मज़ा ले रहे थे.

टेक्सस विश्वविद्याल में असिस्टेंट प्रोफ़ेसर और सोशल साइकोलॉजिस्ट रोएंडा बल्ज़ारिनी के मुताबिक़ ये उनके लिए किसी “हनीमून” पीरियड की तरह था, लोग तनाव को बेहतर तरीक़े से झेल रहे थे.

वो कहते हैं, “इस दौरान लोगों ने साथ मिलकर काम किया. हो सकता है इसमें अपने पड़ोसी को टॉइलट पेपर देना शामिल हो

लेकिन समय के साथ संसाधन कम होते गए, लोगों में तनाव बढ़ गया, उनकी ताक़त कम होने लगी, निराशा और अवसाद बढ़ने लगा. जब ये सब होने लगा तो दो लोगों के बीच रिश्तों में भी बदलाव आने लगे.”

बल्ज़ारिनी के मुताबिक़ उनके और उनके एक साथी द्वारा की गई एक स्टडी जिसमें 18 वर्ष से अधिक उम्र के 57 देशों के लोगों शामिल थे,उसमें ये बातें सामने आईं.

बल्ज़ारिनी के मुताबिक़ उन्होंने पाया कि महामारी की शुरुआत में आर्थिक मोर्चे पर चिंताओं ने यौन इच्छाओं को बढ़ावा दिया.

लेकिन धीरे धीरे लोग महामारी से जुड़े तनाव जैसे कि अकेलापल या आम तनाव या कोविड-19 से जुडे तनाव से ग्रस्त रहने लगे, इसके कारण उनकी यौन इच्छाओं में कमी आने लगी.

RELATED ARTICLES

वैज्ञनिकों के अनुसार ये है दुनिया की सबसे सुंदर महिला, देखें कैली ब्रुक की विशेष तस्वीरें

एक वैज्ञानिक सर्वेक्षण में यह निष्कर्ष निकाला गया है कि केली ब्रुक का चेहरा और शरीर दुनिया में सबसे सुंदर है. वह ना ही...

गार्ड चाहिए, सैलरी 30000 , रहना खाना। फोटो दबाकर नम्बर लें

Bisleri कंपनी में भर्ती मिल रहा है बढ़िए मौका सैलरी 35000कोई भी अप्लाई कर सकता है अप्लाई करने के लिए सबसे नीचे जाइये पति भगवान्...

ज़ाहिद कुरैशी अमेरिकी जज बनने वाले पहले मुस्लिम

अमेरिकी सीनेट (उच्च सदन) ने पाकिस्तानी मूल के अमेरिकी नागरिक जाहिद कुरैशी के न्यूजर्सी में डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में नामांकन को मंजूरी दे दी है।...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

वैज्ञनिकों के अनुसार ये है दुनिया की सबसे सुंदर महिला, देखें कैली ब्रुक की विशेष तस्वीरें

एक वैज्ञानिक सर्वेक्षण में यह निष्कर्ष निकाला गया है कि केली ब्रुक का चेहरा और शरीर दुनिया में सबसे सुंदर है. वह ना ही...

गार्ड चाहिए, सैलरी 30000 , रहना खाना। फोटो दबाकर नम्बर लें

Bisleri कंपनी में भर्ती मिल रहा है बढ़िए मौका सैलरी 35000कोई भी अप्लाई कर सकता है अप्लाई करने के लिए सबसे नीचे जाइये पति भगवान्...

सवाल यदि कोई 18 साल की लड़की ढीले-ढाले कपड़े पहन आपके आगे झुक के प्रणाम करे तो सबसे पहले आपको क्या दिखेगा?

आपको बताते चलें कि देश के अधिकांश युवा वर्ग आज आईएएस आईपीएस की तैयारियों में जुटा हुआ है लेकिन आईएएस आईपीएस अधिकारी बनना इतना...

ज़ाहिद कुरैशी अमेरिकी जज बनने वाले पहले मुस्लिम

अमेरिकी सीनेट (उच्च सदन) ने पाकिस्तानी मूल के अमेरिकी नागरिक जाहिद कुरैशी के न्यूजर्सी में डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में नामांकन को मंजूरी दे दी है।...

Recent Comments