2 साल के बच्चे की मां बुशरा बानो ने फुल टाईम नौकरी करते हुए पास की UPSC,दीजिये बधाई

Education

बुशरा बानो एक ऐसी सशक्त महिला का नाम है, जिन्होंने आईएएस अधिकारी बनने के लिए कठोर तपस्या की। दो साल के बच्चे की मां होने के बावजूद उन्होंने ऐसा हौंसला दिखाया कि वह यूपीएससी की परीक्षा में बैठ गई। हालांकि यह देश की सबसे कठिन परीक्षा मानी जाती है, मगर बुशरा बानो ने ऐसा हुनर दिखाया कि उन्होंने इस कठिन चुनौती को पार कर लिया।

बुशरा बानो ना केवल एक बच्चे की मां भी है, बल्कि एक कंपनी में वह फुल टाईम जॉब भी कर रही थीं। मगर इस परीक्षा के लिए ना तो उन्होंने अपनी जॉब छोड़ी और ना ही बच्चे से अलग हुई। बच्चे के लालन पालन के साथ साथ बुशरा हर रोज अपनी जॉब पर जाती रही, इसके बावजूद उन्होंने इस कठिन परीक्षा को पास कर दिखाया।बुशरा बानो की कहानी उन लोगों के लिए बेहद ही प्रेरक है, जोकि यूपीएससी पास करने के लिए खुद को एक कमरे में कैद कर लेते हैं।

इसके बाद भी उन्हें इस परीक्षा को पास करने में सालों का समय लग जाता है। मगर बुशरा ने इस तरह से परीक्षा देकर एक इतिहास बनाया है। आईए सुनते हैं बुशरा बानो की कहानी, उनकी ही जुबानी। दिल्ली नॉलेज ट्रेक को दिए एक इंटरव्यू में बुशरा बानो ने बताया कि इस परीक्षा को घर-परिवार और नौकरी में रहते हुए भी पास किया जा सकता है। इसके लिए आपको अपने टाईम को मैनेज करने की बहुत जरूरत है। लोग सोचते हैं कि शादी और बच्चों के बाद करियर के सभी दरवाजे बंद हो जाते हैं, मगर ऐसा बिल्कुल नहीं है।

इसके बाद भी कई नए रास्ते खुलते हैं, जिन पर चलकर सफलता प्राप्त की जा सकती है।बुशरा बानो ने यूपीएससी करने के लिए आप्शन के तौर पर मैनेजमेंट विषय को चुना। इसका कारण भी उन्होंने बताया कि वह हमेशा से मैनेजमेंट विषय से पढ़ाई करती रही है। जिस समय उन्होंने यह परीक्षा दी, उस समय वह मैनेजमेंट से डाक्टरोल की पढ़ाई कर रही थी। इसके साथ ही वह बुशरा कॉल इंडिया में सहायक मैनेजमेंट अधिकारी के तौर पर काम कर रही थीं। उन्होंने जब यूपीएससी की परीक्षा देने की सोची, तब भी उन्होंने नौकरी छोडऩे का विचार नहीं किया। बच्चे और जॉब के साथ ही उन्होंने यूपीएससी की परीक्षा दी।


बुशरा बानो ने अपने दूसरे प्रयास में साल 2018 में यूपीएससी की परीक्षा पास की। वह बताती है कि परीक्षार्थी को बहुत सोच समझ कर ही अपना ऑप्शन चुनना चाहिए। जिस पर उनकी पकड़ हो और उसे पढऩे में रूचि रखता हो, उसी विषय को वह अपनी परीक्षा के लिए चुने। इससे उसे परीक्षा देने में ना केवल आसानी होगी, बल्कि वह उसे पास करके दिखा सकता है। उन्होंने कहा कि इस दौरान शेडयूल बनाकर ही तैयारी करनी चाहिए। सबसे जरूरी बात है कि परीक्षार्थी को खुद के प्रति ईमानदार रहना होगा। यदि इंसान सोच ले किसी उसे अपनी मंजिल पर पहुंचना है तो वह उसे हासिल करके रहता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *