82 हजार रुपए किलो सब्जी, बिहार में कहां हो रही खेती?

Business

बिहार में गरीबी है। पलायन है। बेरोजगारी है। अपराध है। सियासत है। बाढ़ है। सूखा है। जाड़ा, गर्मी, बरसात है। मगर 82 हजार रुपए किलो बिकने वाली सब्जी भी है। इसकी खेती भी हो रही है। इसके खरीदार भी हैं। इसे दुनिया की सबसे महंगी सब्जी कहा जाता है। इसी सब्जी के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसकी कीमत सुनकर आप चौंक गए होंगे।

औरंगाबाद में एक किसान विश्व की सबसे महंगी सब्जी की खेती कर रहा है। आसपास के लोगों को समझ में ही नहीं आ रहा है कि आखिर उसने किस चीज की खेती की है। इसे वो कहां बेचेगा? कौन इसकी सब्जी को खरीदेगा? कैसे इसे पकाया जाएगा? आखिर इतनी महंगी सब्जी कौन खाएगा?दुनिया की सबसे महंगी सब्जी का नाम है हॉप शूट्स ।

एक किलो Hop Shoots की इंटरनेशनल मार्केट में कीमत है 1 हजार यूरो यानी 82 हजार रुपए। ये ऐसी सब्जी है जो आपको शायद ही किसी स्टोर पर या बाजार में दिखे। अगर आपको इसे देखना है तो औरंगाबाद के किसान अमरेश कुमार सिंह के खेत तक आना पड़ेगा। नवीनगर प्रखंड के करमडीह गांव में इसकी खेती हो रही है। अमरेश के मुताबिक भारतीय सब्जी अनुसंधान वाराणसी के कृषि वैज्ञानिक डॉक्टर लाल की देखरेख में 5 कट्ठा जमीन पर इसकी ट्रायल खेती की गई है।

2 महीने पहले इसका पौधा लगाया गया था जो अब धीरे-धीरे बड़ा हो रहा है। पौधे के साथ साथ अमरेश की उम्मीदें भी बड़ी हो रही है।
सब्जी बाजार में उपल्बध नहीं होती है। इसका इस्तेमाल एंटीबॉयोटिक दवाओं को बनाने में होता है। TB के इलाज में Hop Shoots से बनी दवा कारगर साबित होती है। इसके फूलों का इस्तेमाल Beer बनाने के काम में किया जाता है। इसके फूलों को हॉप कोन्स कहते हैं। बाकी टहनियों का उपयोग खाने में किया जाता है।

इससे आचार भी बनता है, जो काफी महंगा बिकता है।यूरोपीय देशों में इसकी खेती काफी की जाती है। ब्रिटेन और जर्मनी में लोग इसे काफी पसंद करते हैं। वसंत का मौसम Hop Shoots की खेती के लिए काफी मुफीद माना जाता है। भारत सरकार इन दिनों इस सब्जी की खेती पर वैज्ञानिक रिसर्च करा रही है। वाराणसी स्थित सब्जी अनुसंधान संस्थान में इसकी खेती पर काफी काम चल रहा है। अमरेश ने इसकी खेती के लिए अनुरोध किया था जिसे मान लिया गया। अगर उनकी कोशिश सफल रही तो बाकी किसानों की किस्मत पलट सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *