बदरुद्दीन अजमल का अजीब बयान, कहा ‘मेरी मदद के बिना कोई मंत्री नहीं बन सकता, अमित शाह ने भी

360°

असम में बदरुद्दीन अजमल ने धार्मिक ध्रुवीकरण का दांव खेल दिया और सत्ता की चाबी अपने हाथ में होने का ऐलान कर दिया। बदरुद्दीन अजमल ने कहा कि मंत्रालय देने वाला ऊपर अल्लाह है और धरती पर बदरुद्दीन अजमल. इंशाअल्लाह. बिना मेरी मदद के कोई मंत्री नहीं बन सकता।विवादों की तान, अपनी जुबान पर लेकर घूमने वाले अजमल ने उस बात को साबित कर दिया,जिसका आरोप बीजेपी बार-बार लगाती है।

बीजेपी कहती है कि असम में कांग्रेस पर अजमल का कंट्रोल है, अब अजमल ने मंत्रालय अपनी मुट्ठी में बताकर इन आरोपों को और बल दे दिया है। एक दिन पहले ही बदरुद्दीन अजमल ने कांग्रेस के सीएम उम्मीदवार को समर्थन देने का ऐलान किया था और अब मंत्रालय की मुहर अपने पास बताकर कांग्रेस के लिए भी मुश्किल बढ़ा दी है। सवाल उठता है कि क्या कांग्रेस ने सीएम उम्मीदवार के समर्थन के एवज में बदरूद्दीन को मंत्री तय करने का पूरा अधिकार दे दिया है या फिर अजमल धुर्वीकरण के लिए ऐसे बयान दे रहे हैं।

अमित शाह ने शुक्रवार को कहा कि शरणार्थियों को नागरिकता का अधिकार दिया जाएगा, लेकिन दोहराया गया कि बीजेपी घु,सपैठियों को राज्य में दाखिल होने की अनुमति नहीं देगी। बराक घाटी के पथरकंडी और सिलचर में चुनाव रैलियों को संबोधित करते हुए, शाह ने सीएए का हवाला दिया। यहां हिंदू बंगाली प्रवासी आबादी ने कानून का स्वागत किया।उन्होंने कहा, “मैं यह आश्वस्त करना चाहता हूं कि असम में आने वाले शरणार्थियों को नागरिकता अधिकार दिए जाएंगे, लेकिन घु,सपैठियों को राज्य में आने की अनुमति नहीं दी जाएगीभाजपा की अगली सरकार ‘ल,व एंड लैंड जिहा,द’ के खतरे से निपटने के लिये कानून बनाएगी ‘।

विपक्षी दलों के मुख्य निर्वाचन मुद्दे को बीजेपी के राष्ट्रीय या राज्य स्तरीय नेताओं के भाषण में नहीं पाया गया था और न ही इसकी घोषणा में कोई उल्लेख नहीं था लेकिन पार्टी के अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा था कि कानून “संसद द्वारा पारित किया गया है” और इच्छाशक्ति समय पर निष्पादित किया जाना चाहिए। “

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *