Home 360° ऑटो वाला बना फरिश्ता 15 हजार से अधिक लोगो को फ्री में...

ऑटो वाला बना फरिश्ता 15 हजार से अधिक लोगो को फ्री में पहुचाया अस्पताल

जैसा कि हम सभी को पता है कोरोना का प्रकोप बढ़ता जा रहा है कोरोना संकट के इस दौर में जहां रोज अपने प्रियनों की लाइफ बचाने के लिए लोग अस्पतालों में एडमिशन के लिए बेहाल हैं ऑक्सीजन और बेड्स की कमी से जूझ रहे हैं वहीं इस संकट काल में परेशान मरीजों और उनके परिजनों की जेब काटने में भी लोग पीछे नहीं हैं और ऐसे दौर में भी कालाबाजारी और चीजों और सेवाओं के मनमाने और कई गुना दाम वसूल रहे हैं, ऐसे में कोल्हापुर महाराष्ट्र के ऑटो चालक जितेंद्र शिंदे का काम ऐसे लोगों के मुंह पर तमाचा है।

ऑटो चालक जितेंद्र शिंदे का नाम कोल्हापुर और आस पास के लोगों की जुबान पर चढ़ गया है हो भी क्यों ना वो ऐसा महान काम जो कर रहे हैं, जितेंद्र हर दिन कई कोरोना पीड़ित लोगों को अस्पताल पहुंचा रहे हैं वो भी फ्री सेवा के रूप में।

कोरोना संक्रमण की जानकारी होने पर जहां मरीज के रिश्तेदार और जानने वाले मदद के नाम पर पीछे हट जाते हैं ऐसे में शिंदे उनकी मदद को आगे आते हैं और किसी को अगर अस्पताल जाना हो तो वो उन्हें कॉल करता है वो तुरंत वहां हाजिर होकर मरीज को अस्पताल पहुंचाते हैं।

अगर कोई मरीज ठीक हो जाता है तो उसे खुशी-खुशी उसके घर भी पहुंचाते हैं, इस काम में उन्हें बेहद खुशी मिलती है और वो इसे मानव मात्र की सेवा का अवसर मानते हैं।शिंदे यहीं नहीं रूकते वो कोरोना संक्रमितों की मदद के लिए हर तरीके से तैयार रहते हैं उनके घर कोई सामान पहुंचाना हो तो वो इसे लिए भी पहल करते हैं और अपने पास से सामान ले जाकर उनकी सहायता करते हैं।

कहते हैं कि पिछले एक साल में वह अपनी करीब डेढ़ लाख रूपए की जमा पूंजी इस काम पर खर्च कर चुके हैं, अबतक पीपीई किट्स में भी पांच हजार रुपये से ज्यादा रकम खर्च हो गई है साथ ही पेट्रोल में भी उनका खासा पैसा लगता है।

कोरोना से पीड़ित किसी मरीज की मौत हो जाए और उसकी मृत देह को शमशान पहुंचाने का काम भी शिंदे करते हैं यहां तक कि उसके अंतिम संस्कार की व्यवस्था भी खुद ही कर देते हैं।

प्रवासी मजदूरों को खाना खिलाने और उनकी घर वापसी में मदद के काम में भी शिंदे पीछे नहीं है और इसमें भी वो आगे आकर यथासंभव मदद करने को ना सिर्फ तत्पर दिखते हैं बल्कि पूरी सहायता भी करते हैं।

बताते हैं कि जितेंद्र शिंदे जब 10 साल के थे, तभी उनके माता- पिता का निधन हो गया था उन्हें इस बात का दुख हमेशा सताता रहा कि वह आखिरी वक्त में अपने माता- पिता की सेवा नहीं कर पाए शायद इसी कमी को वो अब लोगों की मदद कर पूरी कर रहे हैं।

RELATED ARTICLES

ज़ाहिद कुरैशी अमेरिकी जज बनने वाले पहले मुस्लिम

अमेरिकी सीनेट (उच्च सदन) ने पाकिस्तानी मूल के अमेरिकी नागरिक जाहिद कुरैशी के न्यूजर्सी में डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में नामांकन को मंजूरी दे दी है।...

आयशा सुल्ताना के खि’ला’फ देश’द्रो’ह का के’स लगा तो bjp नेताओ ने दिया इस्तीफा

नई दिल्ली. लक्षद्वीप में स्थानीय बीजेपी नेता ही फिल्म प्रोड्यूसर और एक्ट्रेस आयशा सुल्ताना (Aisha Sultana) के खि'ला'फ देश'द्रो'ह का माम'ला दर्ज किए जाने...

साकिब उल हसन ने गु’स्से में उखाड़ फेके तीनो स्टम्प

नई दिल्ली. बांग्लादेश के ऑलराउंडर शाकिब उल हसन अक्सर वि'वा'दों में घिरे रहे हैं. कभी देश के क्रिकेट बोर्ड से ट'क:रा'व को लेकर, तो...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

ज़ाहिद कुरैशी अमेरिकी जज बनने वाले पहले मुस्लिम

अमेरिकी सीनेट (उच्च सदन) ने पाकिस्तानी मूल के अमेरिकी नागरिक जाहिद कुरैशी के न्यूजर्सी में डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में नामांकन को मंजूरी दे दी है।...

4 भारतीय खिलाड़ी जिन्होंने आज तक नहीं लगाया एल्को’हल को हाथ, न’शे से करते हैं तौबा

भारतीय टीम (Indian Team) के ऐसे कई क्रिकेटर हैं, जो स्मो किंग भी करते हैं और राब का सेवन भी करते हैं. हार्दिक पांड्या...

आयशा सुल्ताना के खि’ला’फ देश’द्रो’ह का के’स लगा तो bjp नेताओ ने दिया इस्तीफा

नई दिल्ली. लक्षद्वीप में स्थानीय बीजेपी नेता ही फिल्म प्रोड्यूसर और एक्ट्रेस आयशा सुल्ताना (Aisha Sultana) के खि'ला'फ देश'द्रो'ह का माम'ला दर्ज किए जाने...

साकिब उल हसन ने गु’स्से में उखाड़ फेके तीनो स्टम्प

नई दिल्ली. बांग्लादेश के ऑलराउंडर शाकिब उल हसन अक्सर वि'वा'दों में घिरे रहे हैं. कभी देश के क्रिकेट बोर्ड से ट'क:रा'व को लेकर, तो...

Recent Comments