गधे की लीद से मिलावटी मसाले बनाते धरा गया हिंदू युवा वाहिनी का नेता अनूप वार्ष्णेय!

Business

उत्तर प्रदेश के हाथरस में पुलिस ने सोमवार की रात को एक कारखाने में छापा मारा कर नकली मसालों के बड़े रैकेट का भंडाफोड़ कर दिया. कारखाने के लोग स्थानीय ब्रांडों के नाम पर मिलावटी मसाले बनाते थे जिसमें गधे की लीद, गोबर, एसिड और घास (भूसा) का इस्तेमाल किया जाता था. पुलिस ने 300 किलोग्राम से अधिक नकली मसालों को भी जब्त किया है ।
नकली मसालों के कारखाने के मालिक अनूप वार्ष्णेय को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. वार्ष्णेय हिंदू युवा वाहिनी के ‘मंडल प्रहरी’ हैं.

हाथरस के नवीपुर इलाके में उसके कारखाने में पुलिस ने छापे के दौरान लाल मिर्च पाउडर, धनिया पाउडर सहित कई मसाले पाए. गरम मसाला और हल्दी में गधे की लीद, रंगों, एसिड और घास का इस्तेमाल किया जाता था । पुलिस ने मसालों के 27 नमूनों को परीक्षण के लिए प्रयोगशाला भेजा है. संयुक्त मजिस्ट्रेट प्रेम प्रकाश मीणा ने बताया कि कारखाना मालिक वार्ष्णेय को सीआरपीसी धारा 151 के तहत न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. मीना ने कहा कि एक बार लैब टेस्ट के नतीजे आने के बाद खाद्य सुरक्षा और मानक अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया जाएगा. उन्होंने बताया कि काफी समय से मिल रही शिकायत पर फ़ूड इंस्पेक्टर के साथ यहां दबिश दी गयी थी ।

समाचार एजेंसी दी लल्लनटॉप की ये कटिंग वायरल हो रही है

इस बीच, यूपी स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने भारतीय रेलवे के तत्काल टिकट बेचने वाले एक रैकेट का भंडाफोड़ किया और बस्ती जिले में पहचाने जाने वाले उसके मास्टरमाइंड को गिरफ्तार किया है ।

इस कार्रवाई के बारे में जॉइंट मैजिस्ट्रेट प्रेम प्रकाश मीणा ने मीडिया को बताया,
‘काफी समय से शिकायत प्राप्त हो रही थी कि नवीपुर में अवैध रूप से और मिलावटी मसाले की फैक्ट्री चल रही है. और उसी क्रम में कल (15 दिसंबर) को लगभग 10:30-11 बजे के आस-पास फूड इंस्पेक्टर के साथ दबिश दी गई. शिकायत सत्य पाई गई. मौके पर फैक्ट्री-ओनर अनूप वार्ष्णेय जी वहां पर उपस्थित पाए गए. करीब 1000 से ऊपर खाली पाउच मिले, जो पैकिंग के लिए इस्तेमाल किए जाते थे. अलग-अलग कंपनियों के. जब उनसे फैक्ट्री के लाइसेंस या मसाला बनाने के लिए लाइसेंस मांगा गया तो वो कोई लाइसेंस प्रस्तुत नहीं कर पाए. उनका रजिस्ट्रेशन चौबे वाली गली का था, लेकिन फैक्ट्री नवीपुर में चला रहे थे. फैक्ट्री पूरी तरह से अवैध थी .’

उन्होंने आगे बताया,
वहां जो सामान रखा हुआ था, उसको खोल कर देखा गया. उसमें भारी मात्रा में नकली मसाले बनाने की कच्ची सामग्री मिली, जिसमें भूसा, गोबर या फिर अलग-अलग तरीके के तेल और रंग शामिल हैं. जो स्वास्थ्य के लिए बहुत घातक साबित हो सकते हैं ।

जब उनसे ये पूछा गया कि क्या फैक्ट्री मालिक बजरंग दल या भाजपा के नेता भी हैं, इस बारे में प्रेम प्रकाश मीणा ने कहा कि उन्हें कोई जानकारी नहीं है. मौके पर अनूप वार्ष्णेय मौजूद थे. फूड इंस्पेक्टर ने फैक्ट्री सील किया. आगे फूड सेफ्टी ऐक्ट के तहत कार्रवाई जारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *