बड़ी खबर- म-स्ज़िद की दीवारों पर क़ु-रान की आयतें लिखने वाले इस गैर मु-स्लिम ने कही बड़ी बात-

India

हैदराबाद के अनिल चौहान पिछले 25 सालों से Mस्जिदों में Quरान की आयतों की खूबसूरत कैलीग्राफी उकेरते हुए अपने हुनर का प्रदर्शन कर रहे हैं। वो खुद को काफी खुशनसीब बताते हैं कि ऊपर वाले ने उन्हें इस काम के लायक़ समझा है। वे इस काम को करके काफी खुश होते है।

अनिल कुमार चौहान अब देश के लिए सांप्र दायिक सौहार्द की एक मिसाल बन चुके हैं। अनिल चौहान यह पिछले 25 सालों से कर रहे हैं। वो Mस्जिदों में Quरान की आयतों की खूबसूरत कैलीग्राफी उकेरते है। अनिल खुद को काफी खुशनसीब बताते हैं कि ऊपर वाले ने उन्हें इस हुनर के लायक़ समझा।

हैदराबाद की तंग बस्तियों में रहने वाले अनिल चौहान को उर्दू भाषा में महारत हासिल है। वो अपने शुरुआती दौर में चौहान साइनबोर्ड पेंटिंग का काम किया करते थे। उस समय निजामी शहर में दुकानों के बोर्ड पर उर्दू में लिखने का चलन था। चौहान हमेशा से सुंदर कलात्मक की लिखाई में माहिर थे, लेकिन उनकी उर्दू भाषा पर बिल्कुल पकड़ नही थी। ग्राहक के ज़रूरत अनुसार उन्हें जैसा लिखकर दिया जाता था, वैसा ही हू-ब-हू उतार दिया करते थे।

समय के साथ-साथ उनके अंदर उर्दू को जानने और समझने की चाह जागने लगी। उन्होंने लगातार मेहनत कर उर्दू पढ़ना और लिखना सीख लिया। चौहान में एक स्थानीय अख़बार से बताया कि “मैं उर्दू नहीं समझ सकता था और न ही मैं इसे बोल पा रहा था। मैं अपने ग्राहकों को इसे लिखने के लिए कहता था ताकि मैं साइनबोर्ड पर ठीक वैसा ही चित्रित कर सकूं। तभी मैंने उर्दू सीखने का फैसला किया और धीरे-धीरे इसे समझना, बोलना और लिखना शुरू कर दिया।”

कुर आन की आयतों से Mस्जिद की शोभा बढ़ाने का उन्हें मौका नूर Mस्जिद से मिला। अनिल चौहान अपने पहले अवसर के बारे में बताते हैं कि उनकी लिखावट से खुश होकर एक Muस्लिम व्यक्ति ने उन्हें सबसे पहले Mस्जिद-ए-नूर की दीवारों पर Quरान की आयतों को लिखने का मौका दिया था। उसके बाद वो रुके नहीं और आज 25 सालों से अनिल कुमार चौहान ने हैदराबाद और उसके आस-पास की सैकड़ों Mस्जिदों में Quरान की आयतें, हदीस के पाठ और कलमात लिख रखा हैं।

कई सालों तक इस काम के लिए उन्होंने कोई रकम नही ली । बिना मेहनताने के ही वो Mस्जिदों और दरगाहों की दीवारों को खूबसूरत बनाते आएं हैं। हालांकि उन्होंने अब इसके लिए एक रकम लेना शुरू किया है, लेकिन वो काफी मामूली सी है।

शुरुआती दौर में कुछ लोगों द्वारा चौहान का विरोध भी किया गया था। विरोध करने वाले लोगों का कहना था की Muस्लिम धर्म के मान्यताओं के अनुसार Quरान की आयतों को पढ़ने या लिखने के लिए पाक-साफ होना ज़रूरी होता है चाहे वो कोई मुस्लिम ही क्यों न हो।

इस बात पर अनिल चौहान ने अपने काम को जारी रखने के लिए हैदराबाद में जामिया निज़ामिया यूनिवर्सिटी से इजाज़त मांगी। ये यूनिवर्सिटी दक्षिण भारत में इस्लामिक शिक्षा का सबसे पुराना और बड़ा केंद्र है। यूनिवर्सिटी ने अनुमति इस बात के साथ देदी गई कि चौहान भी खास तरह से पाक-साफ रहकर Quरान की आयत लिख सकते हैं, जिसपर चौहान को कोई आपत्ति नहीं हुई। आज उनके काम की सराहना Hinदू और Muसलमान दोनोें करते हैं।

उसी जामिया निज़ामिया यूनिवर्सिटी की लाइब्रेरी में भी चौहान की कला का एक बेहतरीन नमूना देखने को मिल जायेगा। वो कहते हैं “मेरे काम को जामिया निज़ामिया यूनिवर्सिटी के पुस्तकालय में प्रदर्शित किया गया है, जहाँ मैंने Quरान के ‘सूरह यासीन’ के आयतों को चित्रित किया है,”

अनिल ने सांप्रदायिक सौहार्द को बढ़ावा देते हुए संदेश दिया है कि देश के दोनो मुख्य धर्म के लोगों को शांति और एकता के साथ रहना चाहिए। उन्होंने बताया “मैं Hinदू होने के बावजूद Mस्जिदों की दीवारों पर Quरान की आयतें बनाते हुए बहुत खुश हूं। मैं लगभग तीन दशकों से ये काम कर रहा हूं और मैंने एक भी समस्या का सामना नहीं किया है, वो कहते हैं कि दशकों पहले एक कविता में कहा गया था -“मज़हब नही सिखाता आपस में बैर रखना, हिंदी हैं हम वतन हैं हिंदोस्तां हमारा”।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *