Home 360° सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश ने रखा अलविदा जुमे का रोज़ा

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश ने रखा अलविदा जुमे का रोज़ा

सुप्रिम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश मारकंडें काटजू ने अलविदा के दिन रोज़ा रखा है। साथ ही उन्होनें सभी को रोज़ा रखने की अपील किया है।जस्टिस काटजू उर्दू के बड़े जानकारो में से है और ये कई बार पूरे महीने के रोज़े भी रख चुके है। रमज़ान के महिने में 30 दिनों तक मुस्लिम समुदाय के लोग रोजा रखते हैं। रोजे में सुबह सुर्योदय से पहले से लेकर शाम में सुर्यास्त तक कुछ भी खाया पिया नहीं जाता है।

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश मार्कंडेय काटजू ने मुस्लिम समुदाय के लोगों के साथ-साथ सभी को रमजान के महिने की मुबारकबाद देते हुए कहा, पिछले कई सालों से मैं रमजान के महिने में एक दिन रोजा रखता आ रहा हूं। यह मेरे मुस्लिम भाइयों के प्रति एकजुटता के प्रतीक के तौर पर है।

काटजू ने इस साल भी दूसरे समुदाय के लोगों से रमजान के महिने में एक दिन रोजा रखने की अपील की है। इसके पीछे के मकसद के बारे में बताते हुए काटजू ने कहा, गैर मुस्लिमों द्वारा एक दिन रोजा रखना असल में सांप्रदायिकता के उस जहर को काटने की औषधियों में से एक है जो पहले अंग्रेजों और बाद में दूसरों द्वारा हमारे शरीर में भर दिया गया। उन्होंने कहा, इस साल मैंने दुनिया भर के गैर मुस्लिमों से रमजान के आखिरी जुमे को रोजा रखने की गुजारिश की है। उन्होंने लोगों से कहा, अपने मुस्लिम साथियों से सेहरी और इफ्तार का वक्त पता करें और पूरी तन्मयता से रोजा रखें। जस्टिस काटजू ने कहा, वह सभी गैर हिंदुओं से भी नवरात्र के दौरान उपवास रखने की अपील करते हैं।

रमजान में मुस्लिम समुदाय के लोग ही रोजा रखते हैं। पर भारत में कई ऐसे गैर मुस्लिम भी हैं जो इस महिने के दौरान रोजा रखते हैं। उनका मानना है कि इससे उनको एक आध्यात्मिक शांति मिलती है और भूख और प्यास का महत्व भी पता चलता है। भारत की परंपरा ही साझी संस्कृति रही है। सालों से सभी समुदाय एक दूसरे के साथ मिल-जुलकर सभी त्योहार मनाते आए हैं। रमजान में देश के कई हिस्सों में हिंदू समुदाय के लोग मुसलमानों के लिए सेहरी और इफ्तार का प्रबंध कर भाईचारे की मिसाल पेश करते रहे हैं। बिहार के कई इलाकों में हर साल छठ पर्व के दौरान श्रद्धालुओं के लिए घाट जाने वाले रास्तों की सफाई कर मुस्लिम समुदाय के लोग भी अपनी तरफ से इस भाईचारे की भावना को मजबूत करते रहे हैं। जस्टिस काटजू जैसे लोगों की अपील एक स्वागतयोग्य अपील है।

RELATED ARTICLES

वैज्ञनिकों के अनुसार ये है दुनिया की सबसे सुंदर महिला, देखें कैली ब्रुक की विशेष तस्वीरें

एक वैज्ञानिक सर्वेक्षण में यह निष्कर्ष निकाला गया है कि केली ब्रुक का चेहरा और शरीर दुनिया में सबसे सुंदर है. वह ना ही...

गार्ड चाहिए, सैलरी 30000 , रहना खाना। फोटो दबाकर नम्बर लें

Bisleri कंपनी में भर्ती मिल रहा है बढ़िए मौका सैलरी 35000कोई भी अप्लाई कर सकता है अप्लाई करने के लिए सबसे नीचे जाइये पति भगवान्...

ज़ाहिद कुरैशी अमेरिकी जज बनने वाले पहले मुस्लिम

अमेरिकी सीनेट (उच्च सदन) ने पाकिस्तानी मूल के अमेरिकी नागरिक जाहिद कुरैशी के न्यूजर्सी में डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में नामांकन को मंजूरी दे दी है।...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

वैज्ञनिकों के अनुसार ये है दुनिया की सबसे सुंदर महिला, देखें कैली ब्रुक की विशेष तस्वीरें

एक वैज्ञानिक सर्वेक्षण में यह निष्कर्ष निकाला गया है कि केली ब्रुक का चेहरा और शरीर दुनिया में सबसे सुंदर है. वह ना ही...

गार्ड चाहिए, सैलरी 30000 , रहना खाना। फोटो दबाकर नम्बर लें

Bisleri कंपनी में भर्ती मिल रहा है बढ़िए मौका सैलरी 35000कोई भी अप्लाई कर सकता है अप्लाई करने के लिए सबसे नीचे जाइये पति भगवान्...

सवाल यदि कोई 18 साल की लड़की ढीले-ढाले कपड़े पहन आपके आगे झुक के प्रणाम करे तो सबसे पहले आपको क्या दिखेगा?

आपको बताते चलें कि देश के अधिकांश युवा वर्ग आज आईएएस आईपीएस की तैयारियों में जुटा हुआ है लेकिन आईएएस आईपीएस अधिकारी बनना इतना...

ज़ाहिद कुरैशी अमेरिकी जज बनने वाले पहले मुस्लिम

अमेरिकी सीनेट (उच्च सदन) ने पाकिस्तानी मूल के अमेरिकी नागरिक जाहिद कुरैशी के न्यूजर्सी में डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में नामांकन को मंजूरी दे दी है।...

Recent Comments